मंत्री के बेटे की गिरफ्तारी न होने पर बोले यूपी के एडीजी- पहले किसानों से बात, फिर पोस्टमार्टम और अब उनके अंतिम संस्कार में व्यस्त है पुलिस

शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सदस्य संजय राउत ने कहा, “प्रियंका गांधी गिरफ्तार हैं। अगर कानून सबके लिए समान है तो प्रियंका गांधी जेल में क्यों हैं और आरोपी मंत्री और उनका बेटा खुलेआम घूम रहा है।”

lakhimpur Khiri, Priyanka लखीमपुर में विरोध प्रदर्शन के दौरान किसान (एक्सप्रेस फोटो/विशाल श्रीवास्तव)

लखीमपुर खीरी की घटना में आठ लोगों की मौत पर कथित रूप से पुलिस शासन के दबाव में काम कर रही है। इसकी वजह से विपक्ष सत्ता पक्ष के विरोध में आंदोलन और तेज करता जा रहा है। मामले में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे आशीष मिश्रा को एफआईआर दर्ज होने के 24 घंटे बाद भी गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। इस मामले में न्यूज चैनल एनडीटीवी से बात करते हुए लखनऊ जोन के एडीशनल डायरेक्‍टर जनरल (पुलिस) एसएन सबत ने कहा, ‘हम पहले किसानों के साथ बातचीत, फिर पोस्‍टमार्टम और इसके बाद अंतिम संस्‍कार में व्‍यस्‍त थे। हम हर मामले में तय प्रक्रिया का पालन करते हैं और इस मामले की पूरी जांच करेंगे।’

यह पूछे जाने पर कि क्‍या मामले में हाईप्रोफाइल आरोपी के शामिल न होने की स्थिति में भी उनका ऐसा ही रवैया होता, एसएन सबत ने कहा, ‘पुलिस का रुख पीड़‍ित के प्रति है न कि आरोपी के लिए। उन्‍होंने इस संबंध में और किसी प्रश्‍न का जवाब देने से इनकार कर दिया।’

उधर, शिवसेना के वरिष्ठ नेता और राज्य सभा सदस्य संजय राउत ने कहा, “प्रियंका गांधी गिरफ्तार हैं, इसलिए राहुल गांधी से मिलना जरूरी है। अगर कानून सबके लिए समान है तो प्रियंका गांधी जेल में क्यों हैं और आरोपी मंत्री और उनका बेटा खुलेआम घूम रहा है।”

बुधवार को राहुल गांधी जाएंगे लखीमपुर: राहुल गांधी का बुधवार को लखीमपुर जाने का कार्यक्रम है। राहुल लखनऊ से सीतापुर होते हुए लखीमपुर खीरी जाएंगे। उनके साथ पांच सदस्यीय कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल भी होगा। वह दोपहर में 12:30 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पहुंचेंगे। हालांकि, आशंका जताई जा रही है कि पुलिस उन्हें लखनऊ से आगे ही नहीं बढ़ने दे।

इससे पहले छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश सिंह बघेल को भी लखनऊ एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलने दिया गया। इसके बाद वे वहीं धरने पर बैठ गए थे। पुलिस लाइन सीतापुर में पुलिस हिरासत से कांग्रेस नेता दिपेंदर सिंह हुड्डा ने ट्वीट कर कहा, “आज 24 घंटे बीत जाने के बाद दूसरे दिन भी हम अपराधियों की तरह हिरासत में हैं, और किसानों को कुचलने वाले आज़ाद। लखीमपुर की धरा किसानों के रक्त से लाल कर दी गई, पर इस रक्त की एक-एक बूंद आने वाली क्रांति की कहानी लिखेगी।”