मिमिक्री आर्टिस्ट श्याम रंगीला से भी डर लगता है? पुण्य प्रसून बाजपेयी ने मोदी सरकार पर कसा तंज, यूजर्स दे रहे ऐसा रिएक्शन

श्याम रंगीला (Shyam Rangeela) के खिलाफ शिकायत दर्ज होने की बात पर पुण्य प्रसून बाजपेयी (Punya Prasun Bajpai) ने कहा कि अब एक मिमिक्री आर्टिस्ट से भी डर लगने लगा है।

shyam rangeela, punya prasun bajpai, petrol price hike

मिमिक्री आर्टिस्ट श्याम रंगीला प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अंदाज़ में कॉमेडी वीडियोज़ बनाकर मशहूर हुए हैं। लेकिन पेट्रोल, डीजल की आसमान छूती कीमतों को लेकर बनाए गए उनके हालिया वीडियो ने उनके लिए मुश्किल खड़ी कर दी है। दरअसल श्याम रंगीला ने अपना वीडियो श्रीगंगानगर में हनुमानगढ़ रोड के जिस पेट्रोल पंप पर शूट किया, वहां के मालिक ने उनके खिलाफ पुलिस में शिकायत कर दी और उन पर केस दर्ज करने की मांग की। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, प्राइवेट तेल कंपनी के दबाव में पेट्रोल पंप मालिक ने केस दर्ज करने की मांग की है।

इस ख़बर पर सोशल मीडिया पर भी खूब बातें हो रही हैं और श्याम रंगीला का वो वीडियो भी खूब शेयर किया जा रहा है। लोग श्याम रंगीला के विरुद्ध एफआईआर दर्ज़ करने की मांग का विरोध कर रहे हैं। वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने भी अपने ट्विटर अकाउंट से श्याम रंगीला के समर्थन में ट्वीट किया और इसी बहाने केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर तंज कसा। उन्होंने ट्वीट किया, ‘कमाल है मित्रों, मिमिक्री आर्टिस्ट श्याम रंगीला से भी डर लगता है..।’ उनके इस ट्वीट पर यूजर्स भी अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं।

कुमार पवन नाम के यूजर लिखते हैं, ‘क्या हो रहा है इस देश में? श्याम रंगीला के पेट्रोल पंप वाले वीडियो के ख़िलाफ संचालक ने तेल कंपनी के दबाव में श्याम रंगीला के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज करने के लिए थाने में परिवाद दिया है। एक ऐसा वीडियो जिसने सिर्फ देशवासियों को हंसाया, ना कोई अभद्र शब्द ना बदतमीजी, इससे भी डर गए?’

गोपाल अग्रवाल नाम से एक यूज़र ने लिखा, ‘थोड़े दिन इंतजार करो आदमी आदमी से डरने लगेगा फिर याद आएंगे वही पुराने दिन। अम्मा की चूल्हे की रोटी क्योकि पैसा तो अडानी अम्बानी ले जाएंगे। मैं कांग्रेसी नहीं हूं फिर भी वो दिन ठीक थे कम से कम बीजेपी वाले सिलिंडर लेकर खिलाफत तो करते थे।’

मामून लिखते हैं, ‘क्या नमूना चुना है देशवासियो ने। आर्मी का क्रेडिट खुद खाता है और अपनी विफलता को पिछली सरकारों पर छोड़ देता है।’

राम जोशी ने लिखा, ‘डरपोकों और चोरों के मन में इतना भय रहता है कि ऐसे लोग चूहे की पदचाप से ही थरथर कांपने लग जाते हैं, यही हाल है मोदी और भाजपाईयों का, जो भी लोग देश हित के मुद्दों को उठाते हैं, उनसे ये डरने लग जाते हैं और उन पर गैर संवैधानिक कानूनी कार्रवाई भी कर दी जाती है।’

इसी बीच श्याम रंगीला ने अपने वीडियो को लेकर एक स्पष्टीकरण भी जारी किया है। उन्होंने कहा कि उनका मकसद किसी की भावना को ठेस पहुंचाना नहीं था। उनका कहना है कि अगर ऐसा कुछ है तो वो माफी मांगने के लिए तैयार हैं। श्याम ने कहा कि उन्होंने कोई अपराध नहीं किया और उनका मकसद केवल ये था कि वीडियो के माध्यम से सरकार को लोगों की परेशानी बता सकें, जिससे सरकार कुछ राहत दे।