मुंबई NCB के चीफ समीर वानखेड़े की सुरक्षा बढ़ी, जासूसी के शक के चलते बदली गई गाड़ी भी

NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की सुरक्षा में इजाफा किया गया है। पिछले दिनों उन्होंने आरोप लगाया गया था कि दो पुलिसकर्मियों और कुछ अज्ञात लोग उनका पीछा कर रहे हैं।

Sameer Wankhede एनसीबी जोनल डारेक्टर समीर वानखेड़े (फाइल फोटो- पीटीआई)

NCB के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े की सुरक्षा में इजाफा किया गया है। पिछले दिनों उन्होंने आरोप लगाया गया था कि दो पुलिसकर्मियों और कुछ अज्ञात लोग उनका पीछा कर रहे हैं। ऐसे में उनकी सुरक्षा को बढ़ाते हुए कई नए जवानों की तैनाती की गई है। साथ ही सुरक्षा के लिहाज से उनके आधिकारिक गाड़ी को भी बदल दिया गया है। बताते चलें कि समीर वानखेड़े, एक क्रूज शिप पर छापा मारने के बाद इन दिनों खबरों में हैं। इस छापेमारी के दौरान सुपर स्टार शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को ड्रग्स के मामले में गिरफ्तार किया था।

एक अधिकारी ने बताया कि एडिशनल पुलिस कमिश्नर (वेस्ट) से वानखेड़े के शिकायत की जांच कराई जा रही है। उन्होंने बताया कि कुछ लोगों के साथ उन पुलिसकर्मियों के बयान भी दर्ज किये जायेंगे, जो कथित रूप से वानखेड़े का पीछा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पुलिस आयुक्त के आदेश के अनुसार सात दिन में जांच रिपोर्ट देने के लिये कहा गया है।

अधिकारी ने इससे पहले बताया था कि वानखेड़े ने अपनी शिकायत में कहा है कि सात अक्टूबर को उस वक्त उनका पीछा किया गया, जब वह ओशीवाड़ा स्थित एक क्रब्रिस्तान गये थे, जहां उनकी मां को दफनाया गया था। अधिकारी के अनुसार वानखेड़े ने आरोप लगाया था कि उन पर नजर रखी जा रही है और अपने दावे के समर्थन में उन्होंने कब्रिस्तान के सीसीटीवी फुटेज भी उपलब्ध करवाए।

वानखेड़े ने इस मामले में प्रदेश के पुलिस महानिदेशक संजय पांडेय से भी मुलाकात की। वानखेड़े ने अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स मामले की भी जांच की थी।

आर्यन खान को राहत नहीं: NCB द्वारा तीन अक्टूबर को एक क्रूज से गिरफ्तार आर्यन खान को कम से कम छह दिन और जेल में रहना होगा, क्योंकि एक स्पेशल कोर्ट ने दिन में उसकी और दो अन्य आरोपियों की जमानत याचिकाओं फैसला सुरक्षित कर लिया है, अगली सुनवाई 20 अक्टूबर को होगी, यानी की तब तक आर्यन खान को मुंबई की आर्थर जेल में रहना होगा। एनसीबी की प्राइमरी कस्टडी खत्म होने के बाद मजिस्ट्रेट ने उन्हें जमानत देने से इनकार करते हुए न्यायिक हिरासत में मुंबई के आर्थर रोड जेल भेज दिया था।