मुख्यमंत्री जी थार कब पलटेगी? लखीमपुर हिंसा के नए वीडियो पर सपा नेता का तंज, पूर्व IAS बोले- शुतुरमुर्गी सरकार को ये नहीं दिखेगा

लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा से जुड़ा एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इस पर पूर्व IAS सूर्य प्रताप सिंह ने लिखा, ‘शुतुरमुर्ग सरकार को ये नहीं दिखेगा।’

Lakhimpur Kheri लखीमपुर खीरी में हुई थी हिंसा (Photo- Indian Express)

लखीमपुर खीरी हिंसा का मुद्दा गरमाता जा रहा है। विपक्षी दल इसको लेकर योगी सरकार पर हमलावर हैं। इसी बीच हिंसा से जुड़ा एक नया वीडियो सामने आया है। इस वीडियो में एक शख्स गाड़ी चलाता हुआ पीछे से आता है और किसानों को कुचलता हुआ आगे निकल जाता है। वायरल हो रहे वीडियो पर लोगों की प्रतिक्रियाएं भी अलग-अलग आ रही हैं।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने वीडियो शेयर करते हुए लिखा, ‘नरेंद्र मोदी जी आपकी सरकार ने बगैर किसी ऑर्डर और FIR के मुझे पिछले 28 घंटे से हिरासत में रखा है। अन्नदाता को कुचल देने वाला ये व्यक्ति अब तक गिरफ्तार नहीं हुआ। आखिर क्यों?’ यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी लिखते हैं, ‘अगर ये राज्य-प्रायोजित भाजपा आतंकवाद नहीं है तो क्या है? किसानों को रौंदने वाला सबसे दर्दनाक वीडियो।’ कांग्रेस पार्टी ने ट्वीट में लिखा, ‘लखीमपुर-खीरी का सबसे ज्यादा दिल दहला देने वाला वीडियो। मोदी सरकार की चुप्पी सवाल खड़े करती है।’

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला लिखते हैं, ‘कभी पहले राजा महाराजा हाथी से कुचलवाते थे। गोरे अंग्रेज घोड़े चढ़ा दिया करते थे। अंग्रेजों के मुखबिरों और उनके दलालों के वारिस कार चढ़ा रौंद रहे हैं। क्या यही ‘न्यू इंडिया’ है?’ समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता I.P सिंह ने अपने ट्वीट में लिखा, ‘मुख्यमंत्री जी थार कब पलटेगी? टैनी के घर पर बुल्डोजर कब चलेगा? आत्मनिर्भर पुलिस जो आपके इशारे पर आम लोगों के घर पर नंगा नाच करती है। कब उसे गिरफ्तार करेगी?’

यूपी सरकार पर कसा तंज: आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने वीडियो साझा करते हुए लिखा, ‘क्या इसके बाद भी कोई प्रमाण चाहिए? देखिये सत्ता के अहंकार में चूर गुंडे ने किसानों को अपनी गाड़ी के नीचे कैसे रौंदकर मार दिया? कुछ चैनल ज्ञान दे रहे थे मंत्री का बेटा जान बचाने के लिए भागा।’ पूर्व IAS अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने लिखा, ‘और वो थार से कुचलता चला गया। और कोई साक्ष्य चाहिए? लेकिन शतुरमुर्ग बनी यूपी सरकार/पुलिस को नहीं दिखेगा।’

फिल्ममेकर विनोद कापड़ी ने लिखा, ‘ये साफ-साफ हत्या है। THAR में बैठे ड्राइवर को साफ दिख रहा था कि सड़क पर कितनी भीड़ है। इसके बावजूद वो किसानों को कुचलता चला गया। किसान नेता राकेश टिकैत को इस नरसंहार की भयावहता के बारे में ज़रूर बताया गया होगा, इसके बावजूद हत्यारों की गिरफ़्तारी से पहले ही किसान नेताओं ने 24 घंटे में समझौता क्यों और कैसे कर लिया? ये सवाल टिकैत से पूछा जाना चाहिए।’