मुझे अवॉर्ड की जरूरत नहीं थी- धर्मेंद्र नहीं लेना चाहते थे ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड’, दिलीप कुमार के कारण हुए थे राजी

धर्मेंद्र को फिल्मफेयर द्वारा लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। हालांकि वह इस अवॉर्ड को लेना नहीं चाहते थे।

Sunny Deol, Superstar Rajesh Khanna, Dharmendra, बॉलीवुड लेजेंड एक्टर धर्मेंद्र (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर धर्मेंद्र ने फिल्म ‘दिल भी तुम्हारा हम भी तुम्हारे’ से हिंदी सिनेमा में कदम रखा था। इस फिल्म के बाद धर्मेंद्र कई हिट फिल्मों में नजर आए थे। फिल्मी दुनिया में अहम योगदान देने के लिए धर्मेंद्र को फिल्मफेयर द्वारा ‘लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड’ से भी नवाजा गया था। हालांकि शुरुआत में एक्टर इस अवॉर्ड लेने के लिए राजी नहीं थे। लेकिन दिलीप कुमार के कारण धर्मेंद्र ने अवॉर्ड लेने का फैसला किया था। इस बात का खुलासा खुद धर्मेंद्र ने ‘आज तक’ को दिए इंटरव्यू में किया था।

दरअसल, धर्मेंद्र से न्यूज एंकर ने सवाल किया था, “कभी आपको इस बात से दुख हुआ कि फिल्मफेयर वालों ने 1958 में टैलेंट अवॉर्ड तो दिया, लेकिन कभी इतने सालों में बेस्ट एक्टर नहीं दिया। वे नॉमिनेट तो करते थे और अंत में लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड दे दिया 2010 में।” धर्मेंद्र ने सवाल का जवाब देते हुए कहा था कि मुझे अवॉर्ड की जरूरत नहीं थी।

धर्मेंद्र ने इस बारे में बात करते हुए कहा था, “मैं असल में इसलिए गया था, क्योंकि दिलीप साहब मुझे वो अवॉर्ड देने वाले थे। मुझे अवॉर्ड की कोई जरूरत नहीं थी। मुझसे कहा भी गया था कि दिलीप साहब आपको अवॉर्ड देंगे। वह मेरे लिए सबसे खुशहाल लम्हा दिलीप साहब की वजह से बना था, फिल्मफेयर की वजह से नहीं।”

धर्मेंद्र ने इस बारे में बात करते हुए आगे कहा था, “अवॉर्ड असल में लेने आना चाहिए और मुझे वो लेने नहीं आता था। उसके लिए दिमाग का चालाक होना भी जरूरी होता है। मुझे नहीं चाहिए साहब, फिल्म हिट होती थी वो मेरे लिए बहुत बड़ा अवॉर्ड है। फैंस मेरे हैं, उससे बड़ा अवॉर्ड क्या मिलेगा मुझे।”

बता दें कि धर्मेंद्र एक्टर दिलीप कुमार को अपने बड़े भाई की तरह मानते थे। दिलीप कुमार की फिल्म ‘शहीद’ देखने के बाद से ही धर्मेंद्र उनके फैन बन गए थे। उनसे मुलाकात करने के लिए धर्मेंद्र ठंड में बिना किसी स्वेटर के ही चले गए थे। ऐसे में एक्टर ने उन्हें अपना स्वेटर दिया था, जिसे लौटाने से धर्मेंद्र ने साफ मना कर दिया था।