मुस्लिम वोट के सवाल पर ओमप्रकाश राजभर ने सपा, भाजपा पर साधा निशाना, बोले- वो करें तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला

कार्यक्रम के दौरान सुभासपा नेता ओम प्रकाश राजभर ने उत्तरप्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सरकार जाति और धर्म देखकर अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है।

टीवी चैनल पर कार्यक्रम के दौरान सुभासपा नेता ओम प्रकाश राजभर ने डॉन मुख़्तार अंसारी को लेकर कहा कि उनकी वजह से ही हमें पिछले चुनाव में मुसलमानों का वोट मिला था।(एक्सप्रेस फोटो)

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर सभी राजनीतिक पार्टियां अभी से ही समीकरण साधने में जुट गई है। आगामी विधानसभा चुनाव में अपना दमखम दिखाने की कोशिश में जुटी ओम प्रकाश राजभर की पार्टी सुभासपा ने सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के साथ चुनाव लड़ने की बात कही है। साथ ही ओम प्रकाश राजभर ने डॉन मुख़्तार अंसारी को भी मनमाफिक सीट से चुनाव लड़ने का ऑफर दिया है। इसी मुद्दे पर एक टीवी कार्यक्रम के दौरान जब पत्रकार ने ओम प्रकाश राजभर से सवाल पूछा कि आप मुस्लिम वोट बैंक को साधने के लिए मुख़्तार अंसारी का साथ दे रहे हैं। तो उन्होंने जवाब देने के दौरान सपा, भाजपा सहित सभी पार्टियों पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर वो करें तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला।

दरअसल टीवी चैनल न्यूज 24 पर आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान पत्रकार राजीव रंजन ने सुभासपा नेता ओम प्रकाश राजभर से सवाल पूछते हुए कहा कि आप मुस्लिम वोटों की खातिर मुख़्तार अंसारी का गुणगान गाएंगे तो एक पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष क्या संदेश दे रहा है। इसपर जवाब देते हुए ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि भाजपा मुस्लिम वोट के लिए गीत गाए, मुलायम सिंह और अखिलेश यादव गीत गाए, मायवाती गीत गाए, सोनिया गांधी गीत गाए तो अच्छा गीत है। अगर ओम प्रकाश राजभर गीत गाए तो बुरा लगता है, ऐसा क्यों ?

आगे ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि अभी मैंने भाजपा का वह बयान देखा कि जहां-जहां मुस्लिम बहुल सीटें हैं, हम वहां सौ-सौ सदस्य बनाएंगे। अगर वो करें तो रासलीला, हम करें तो कैरेक्टर ढीला। इस दौरान ओम प्रकाश राजभर ने मुख़्तार अंसारी से जुड़े एक सवाल पर यह भी कहा कि मुख़्तार की वजह से ही हमें मुसलमानों का वोट मिला था। हमारा और उनका संबंध तबसे है जब उन्होंने कौमी एकता दल बनाया था।

इसके अलावा ओम प्रकाश राजभर ने उत्तरप्रदेश की योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ये सरकार जाति और धर्म देखकर अपराधियों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है। मैं डंके की चोट पर कहता हूं कि जब हाथरस में घटना होती है तो सरकार अपराधी को बचाने में लग जाती है। बलिया में भी हत्या होती है सरकार अपराधियों को बचाने लग जाती है। ये कौन सा तरीका है?    

बता दें कि पहले भी एक कार्यक्रम के दौरान ओम प्रकाश राजभर मुख़्तार अंसारी को गरीबों का मसीहा बता चुके हैं और उन्होंने उन्हें मनमाफिक सीट देने की बात भी कही है। कार्यक्रम में ओम प्रकाश राजभर ने मुख़्तार अंसारी को लेकर कहा था कि वे गरीबों के मसीहा है। मैं उन्हें अपराधी नहीं मानता हूं। जब तक अदालत से सजा नहीं मिल जाए तब तक हम उन्हें कैसे अपराधी बोल सकते हैं?