मेरे भाई की फ़िल्म बन रही है, जाने दो इन्हें- जब मुमताज को ‘फिल्म सेना’ ने देव आनंद की फिल्म करने से रोका, धर्मेंद्र को देख सब हट गए थे पीछे

मुमताज़ 6 से अधिक फ़िल्में एक ही साथ कर रही थी जिस पर ‘फिल्म सेना’ वालों को आपत्ति थी और उन्होंने मुमताज़ को देव आनंद की फिल्म, ‘हरे रामा हरे कृष्णा’ की शूट में जाने से रोक दिया था।

mumtaz, dharmendra, dev anand धर्मेंद्र ने मुमताज़ को देव आनंद की फिल्म करने में मदद की थी (Photo-Indian Express Archive)

धर्मेंद्र की छवि हमेशा दूसरों की मदद करने वाले अभिनेता की रही है। साफ़ दिल के धर्मेंद्र ने फिल्म इंडस्ट्री में अपनी सक्रियता के दिनों में कई लोगों की मदद की जिनमें मुमताज़ भी थीं। दरअसल उन दिनों इंडस्ट्री में ‘फिल्म सेना’ नाम से एक संगठन काम करता था जो कलाकारों को एक बार में 6 से अधिक फ़िल्में करने से रोकता था। मुमताज़ की शादी तय हो गई थी और इसी कारण वो अपने सभी रुके हुए प्रोजेक्ट्स जल्द ख़त्म करना चाहतीं थीं।

मुमताज़ 6 से अधिक फ़िल्में एक ही साथ कर रही थी जिस पर फिल्म सेना वालों को आपत्ति थी और उन्होंने मुमताज़ को देव आनंद की फिल्म, ‘हरे रामा हरे कृष्णा’ की शूट में जाने से रोक दिया था। इस दिलचस्प किस्से का ज़िक्र जूनियर महमूद ने इंडिया आस्क नामक मीडिया प्लेटफ़ॉर्म को दिए एक इंटरव्यू में कुछ समय पहले किया था।

उन्होंने बताया था, ‘हम लोग फिल्म की शूटिंग में काठमांडू, नेपाल गए थे। उस दौर में एक फिल्म सेना बनी थी। फिल्म सेना का मकसद था कि हर हीरो हीरोइन एक बार में 6 फिल्मों से ज्यादा नहीं करेंगे। मुमताज़ आपा शादी के बाद भारत से जाने वाली थीं। उन्होंने सबको अल्टीमेटम दिया था कि जल्दी जल्दी अपनी फ़िल्में ख़त्म करें। हम काठमांडू में देव साहब के साथ मुमताज़ का वेट कर रहे थे। मुमताज़ एक साथ 6 से ज्यादा फ़िल्में कर रहीं थीं तो फिल्म सेना वालों ने कहा कि हम इनको जाने नहीं देंगे, देव साहब की शूटिंग में।’

जूनियर महमूद ने आगे कहा था, ‘देव साहब कहने लगे कि नहीं, नहीं मुझे वही चाहिए। हमें ये पता चला कि के आसिफ मरहूम और धर्मेंद्र जी मुमताज़ जी को गाड़ी में बीच में बैठाकर घर से एअरपोर्ट ले आए। एअरपोर्ट पर उनको विदा किया और जब फिल्म सेना वालों ने धर्मेंद्र और के आसिफ को देखा तो कोई भी अगल बगल नज़र नहीं आया। किसी ने जुर्रत नहीं की, हिम्मत नहीं की। धर्मेंद्र जी ने कहा था कि मेरे भाई की पिक्चर बन रही है, मेरा बड़ा भाई है, वहां है वो.. जाने दो इन्हें।’ मुमताज़ फिर काठमांडू पहुंची थीं और फिल्म की शूटिंग भी उन्होंने पूरी की।

धर्मेंद्र अपने फैंस के साथ भी काफी नरमी से पेश आते रहे हैं। ऐसा ही एक किस्सा उनके बेटे बॉबी देओल ने सुनाया था। हुआ ये कि धर्मेंद्र का एक फैन उनकी एक झलक पाने के लिए पंजाब से मुंबई आया था। जब वो धर्मेंद्र के घर के बाहर पहुंचा तो सिक्योरिटी ने उसे रोक लिया। उसे जबरदस्ती वहां से हटाने की कोशिश हो ही रही थी कि तभी धर्मेंद्र आ गए और उन्होंने फैन को घर में बुलाया। धर्मेंद्र ने उसे खाना खिलाया था और पहनने को कपड़े भी दिए थे।