‘मैंने जो कहा था तब किसी ने नहीं सुना’, महाभारत एक्टर ने PM मोदी से कही ये बात; मुकेश खन्ना बोले- ये कौनसी बुद्धिमानी?

Mukesh Khanna ने कहा- ‘मैं चुनाव आयोग को इसका दोष देना चाहूंगा। एक तरफ आप कहते हैं सोशल डिस्टेंसिंग, 2 गज की दूरी, मास्क पहनें और फिर आप कहते हैं कि हमारी चुनाव सभा में आइए?

The Mukesh Khanna Show, West Bengal Elections, मुकेश खन्ना, कोरोना, बंगाल इलेक्शन, Corona,

कोरोना के प्रकोप के चलते देश में हर रोज हजारों की संख्या में मौतें हो रही हैं। वहीं पिछले दिनों पश्चिम बंगाल में हुए चुनावों और प्रचार रैलियों को लेकर मुकेश खन्ना का गुस्सा फूटा है। सोशल मीडिया पर मुकेश खन्ना देश के हालातों पर रिएक्ट करते हुए कहते हैं- ‘ये क्या हो रहा है हमारे देश में? कल मैंने पेपर में पढ़ा कि प्रशासन ने मना किया था बावजूद इसके इतने लोगों की भीड़ जुटी। अब इसमें प्रशासन का दोष है या भीड़ का?’

सवाल करते हुए मुकेश खन्ना ने आगे कहा- ‘ऐसा तो नहीं था हमारा देश! कहां गया हमारा वो देश जिसमें कहते थे कि सोने की चिड़िया थी, जिसमें दूध की नदियां बहती थीं? उस देश में राजा था प्रजा थी। राजा राजा का कर्तव्य निभाता था और प्रजा प्रजा का। कहां गया वो देश जिसे वल्लभ भाई पटेल ने मजबूती से खड़ा किया था? कहां से आ गए ये टुकड़े-टुकड़े गैंग? टुकड़े टुकड़े राज्य देखिए कहां से आ गए ये? वह भी ऐसे माहौल में जहां इस वक्त एक-जुटता की बेहद जरूरत है।’

मुकेश खन्ना आगे बोले- ‘ऐसे हालत में लोग वो कर रहे हैं जिसके लिए सरकार मना कर रही है। कोरोना ने इस वक्त भीषण विकराल रूप ले लिया है। काहे को इस बार इलेक्शन करवाए गए? मैं पूछना चाहता हूं? मैं पहले भी ये कह चुका हूं। 3-4 महीने पहले भी मैंने ये बात उठाई थी। मैंने कहा था मोदी जी सेना बुलाइए। उस वक्त फर्स्ट फेस ही था, उस वक्त लोग घरों से बाहर निकल रहे थे। उस वक्त किसी ने नहीं सुना जो मैंने कहा था।’

क्यों कराए गए पश्चिम बंगाल में चुनाव?: महाभारत एक्टर बोले- ‘ये जो चुनावों की रैलियां हुई हैं वो किसके कंट्रोल में थीं? प्रशासन के कंट्रोल में, या चुनाव आयोग के कंट्रोल में? क्यों कराया गया ये चुनाव? क्या इसे रोका नहीं जा सकता था? जब हर चीज की तारीख को आगे बढ़ाया गया, लोगों की नौकरियां, परीक्षाएं आदि, तो ये क्यों नहीं आगे बढ़ाया गया?’

मुकेश बोले- ‘ऐसे माहौल में इलेक्शन कराना कौन-सी बुद्धिमानी का काम था? ये हमारा देश नहीं है! हमारा देश था जिसमें प्रजा राजा की बात मानती थी। यहां तो स्टेट्स बंट गए हैं। अपने ही देश में कहा जा रहा है कि ये बाहरी हैं। हमारे ही लोग एक राज्य से दूसरे राज्य में जाते वक्त ये सवाल करते हैं कि आप तो बाहरी हो?’

‘दोषी चुनाव आयोग!’: एक्टर गुस्से में बोले- ‘मैं चुनाव आयोग को इसका दोष देना चाहूंगा। एक तरफ आप कहते हैं सोशल डिस्टेंसिंग, 2 गज की दूरी, मास्क पहनें और फिर आप कहते हैं कि हमारी चुनाव सभा में आइए? व्हील चेयर के ऊपर बैठ कर रोड शो किया जाता है, पीछे लोग भाग रहे हैं। चलो मान लेते हैं कि नेता तो चाहेगा कि उसकी रैली में इतने लोग आएं। पर गलती तो चुनाव आयोग की है। उन्हें इस बात का ख्याल रखना चाहिए था।’