‘मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ नहीं बोलता..’ TMKOC के तारक मेहता ने भरी सभा में कही ये बात, बताई वजह; मिले ऐसे रिएक्शन

शैलेंद्र कहते हैं- ‘मैं इसलिए नहीं बोलता क्योंकि आपको और मुझे कोई अधिकार नहीं है भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने का। देश में राजनीति को गालियां देने से देश में भ्रष्टाचार खत्म नहीं होगा।

Taarak Mehta Ka Ooltah Chashmah, Shailendra Lodha, TMKOC, Taarak Mehta AKA Shailendra Lodha,

देश में भ्रष्टाचार हर क्षेत्र में फैला है। इस पर तारक मेहता का उल्टा चश्मा के मुख्य कलाकारों में से एक शैलेंद्र लोधा ने खुल कर बात की। शो TMKOC में तारक मेहता का किरदार निभाने वाले शैलेंद्र कहते हैं कि वह भ्रष्टाचार के खिलाफ नहीं बोलते। इसका उत्तर भी उन्होंने दिया कि ऐसा क्यों है? तारक मेहता शो के एक्टर कहते हैं- ‘कई लोग मुझे कहते हैं, शैलेश जी आप भ्रष्टाचार के खिलाफ खड़े होकर नहीं बोलते हैं। मैं बोलता हूं हां मैं नहीं बोलता। मैं इसलिए नहीं बोलता कि मैं भ्रष्टाचार का समर्थक हूं।’

दो बोल नाम के यूट्यूब चैनल अकाउंट के एक वीडियो में शैलेंद्र कहते दिखते हैं- ‘मैं इसलिए नहीं बोलता क्योंकि आपको और मुझे कोई अधिकार नहीं है भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने का। देश में राजनीति को गालियां देने से देश में भ्रष्टाचार खत्म नहीं होगा। आपको और हमको क्या अधिकार है भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने का अगर रास्ते में हम अगर जाते हैं और रास्ते में हमारे पास कागज नहीं होते, पुलिसवाले को 200 रुपए देकर हमें छूट कर जाना है क्या मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ बात करूंगा?’

उन्होंने आगे कहा- ‘ट्रेन में मैं जाता हूं, मेरे पास सीट नहीं होती मैं 500 रुपए का पत्ता देता हूं, क्या मुझे अधिकार है भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलने का? मैं टोलटैक्स देते हुए ये सोचता हूं कि 60 रुपए बचाऊं। क्या मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलूंगा? मेरे नंबर कम आते हैं, मैं टीचर के घर जाता हूं और कहता हूं कि मेरे नंबर बढ़ा दीजिए और मिठाई का डब्बा ले लीजिए? क्या मैं इस लायक हूं जो बोलूंगा?’

वे आगे बोले- ‘रास्ते में कोई किसी महिला को छेड़ दे तो मैं रुकूं नहीं चलता रहूं तो क्या मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलूंगा? मैं इतनी जल्दी में होता हूं कि रास्ते में किसी बुजुर्ग को रास्ता पार नहीं करा सकता, किसी की तकलीफ नहीं समझ सकता क्या मैं भ्रष्टाचार के खिलाफ बोलूंगा? घर में बिजली का बिल तेज चलता है तो खंबे से तार खींच कर लगाता हूं, मैं भ्रष्टाचार की बात करूंगा?’

एक्टर ने आगे कहा- ‘कोई अधिकार नहीं है आपको और मुझे। एक बटा 125 करोड़ करोड़ हिंदुस्तानी आप हैं, 1 बटा 125 करोड़ हिंदुस्तान मैं हूं। आप अपना भ्रष्टाचार समाप्त कीजिए मैं अपना समाप्त करता हूं। मुल्क का भ्रष्टाचार तब जाकर कहीं समाप्त होगा।’ शैलेंद्र की इन बातों के अंत में लोगों ने रिएक्ट करना शुरू किया और तालियों की गड़गड़ाहट ने साबित कर दिया कि सब उनकी एकएक बात से सहमत हैं।