‘यह कोई टेनिस बॉल नहीं जिसे मैं जेब में रखकर घूमूंगा,’ भारतीय क्रिकेटर ने सुनाई पिच रोलर चुराने के आरोप के पीछे की कहानी

जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएश ने भारतीय क्रिकेटर परवेज रसूल को नोटिस भेजा है। नोटिस में रसूल से पिच रोलर वापस करने या फिर पुलिस कार्रवाई का सामना करने की बात कही गई है। अब भारतीय क्रिकेटर ने नोटिस भेजने के पीछे की पूरी कहानी बताई है।

Parvez Rasool was asked to return the pitch roller or face police action जेकेसीए की ओर से भेजे गए नोटिस में परवेज रसूल को पिच रोलर वापस करने या पुलिस कार्रवाई का सामना करने के लिए कहा गया है। (सोर्स- एक्सप्रेस अर्काइव)

द इंडियन एक्सप्रेस ने एक दिन पहले बताया था कि जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन (जेकेसीए) ने भारतीय क्रिकेटर परवेज रसूल को नोटिस भेजा है। नोटिस में रसूल से पिच रोलर वापस करने या फिर पुलिस कार्रवाई का सामना करने की बात कही गई है। अब भारतीय क्रिकेटर ने नोटिस भेजने के पीछे की पूरी कहानी बताई है। उन्होंने खुद को पीड़ित बताते हुए यह इच्छा भी जताई कि चीजें हाथ से निकलने से पहले भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को हस्तक्षेप करे।

रसूल ने नोटिस मिलने की कहानी को लेकर अपना पक्ष रखा। उन्होंने कहा, रोलर टेनिस बॉल की तरह नहीं है जिसे मैं अपनी जेब में रख सकता हूं और जहां चाहूं घूम सकता हूं। यह जमीन के इस्तेमाल के लिए है। यह क्रिकेट के विकास के लिए है। मैं वास्तव में नहीं जानता कि ये चीजें यहां क्यों हो रही हैं। मुझे एक ‘दूसरा नोटिस’ मिला जिसमें कहा गया था कि हमने आपको 5 जुलाई को नोटिस भेजा था।

भारतीय क्रिकेट बोर्ड द्वारा नियुक्त JKCA तीन सदस्यीय उप-समिति में शामिल भाजपा प्रवक्ता ब्रिगेडियर (रिटायर्ड) अनिल गुप्ता का कहना है कि रसूल को ईमेल के जरिए नोटिस भेजा गया था क्योंकि क्रिकेटर के कॉन्टैक्ट डिटेल्स जिला क्रिकेट यूनिट ने दिए थे।

इस पर रसूल ने कहा कि उन्हें शुरुआती नोटिस कभी नहीं मिला। रसूल ने नोटिस के पीछे की मंशा पर भी सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि यह उनकी (जेकेसीए) रिकॉर्ड बुक में है। अगर यह रिकॉर्ड बुक में है तो मुझे पहला नोटिस क्यों नहीं भेजा गया, इसके बजाय मुझे दूसरा नोटिस भेजा गया। इसका मतलब है कि यह पक्षपात से जुड़ा था। उसके साथ एक रसीद होनी चाहिए? अगर आपको लगता है कि कोई इसका सही इस्तेमाल नहीं कर रहा है, तो आप उन्हें लिखें, न कि ऐसे क्रिकेटर को जिसका इससे कोई लेना-देना नहीं है। मुझे समझ में नहीं आता कि उन्होंने मुझे ई-मेल क्यों भेजा गया। खासकर जब मेरा इससे कोई लेना-देना नहीं है। इसके लिए जिला पदाधिकारियों को लिखें।

32 वर्षीय ऑलराउंडर ने कहा कि वह तब और परेशान हो गए जब एक पदाधिकारी ने सोशल साइट पर लिखा कि रसूल को एक लंबी रस्सी देने की जरूरत है ताकि वह फांसी लगा सकें। रसूल के अनुसार, पदाधिकारी ने बाद में अपनी पोस्ट हटा ली।

रसूल ने कहा, लेकिन मेरे पास उनके कमेंट का स्क्रीनशॉट है। क्या कोई मुझे बता सकता है कि मैंने क्या गलत किया है कि मुझे फांसी की जरूरत है? यदि आपको कोई संदेह है, तो उनके पास मेरा फोन नंबर है, वे मुझे कॉल कर सकते हैं। इसे स्पष्ट करने में केवल कुछ सेकंड लगेंगे, लेकिन ऐसा लगता है कि वे मुझे प्रताड़ित करना चाहते थे।

बता दें कि जम्मू एंड कश्मीर उच्च न्यायालय ने आदेश दिया था कि बीसीसीआई को जेकेसीए क्रिकेट चलाना चाहिए। इसके बाद जून में जेकेसीए प्रशासकों की समिति अस्तित्व में आई। एक महीने बाद बीसीसीआई ने दो भाजपा के दो प्रवक्ता अनिल गुप्ता और अधिवक्ता सुनील सेठी को क्रिकेटर मिथुन मन्हास के साथ पैनल में नियुक्त किया गया। इसके अलावा श्रीनगर में क्रिकेट के विकास को देखने और उप-समिति को रिपोर्ट करने के लिए माजिद डार को नियुक्त किया गया था।