यूपीः ‘अब्बा जान’ पर सपा सदस्यों का विधान परिषद में जोरदार हंगामा

यूपी असेंबली में मंगलवार को जोरदार हंगामा हुआ। दरअसल, सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधान परिषद में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव पर कटाक्ष किया। उन्होंने कोरोना टीका लगवाए जाने की तरफ इशारा करते हुए ‘अब्बा जान’ शब्द का इस्तेमाल किया।

CM YOGI यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ। (फोटोः एजेंसी)

यूपी असेंबली में मंगलवार को जोरदार हंगामा हुआ। दरअसल, सीएम योगी आदित्यनाथ ने विधान परिषद में सपा संस्थापक मुलायम सिंह यादव पर कटाक्ष किया। उन्होंने कोरोना टीका लगवाए जाने की तरफ इशारा करते हुए ‘अब्बा जान’ शब्द का इस्तेमाल किया। इस पर सपा सदस्यों ने जोरदार हंगामा किया।

मुख्यमंत्री ने टीका लगवाने से इनकार करने वाले समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह कौन लोग थे जो कहते थे कि हम टीका नहीं लगाएंगे। वह कौन चेहरे थे जो कहते थे कि यह तो मोदी टीका है। यह भाजपा का टीका है इसे हम नहीं लगवाएंगे। उन्होंने कहा- यह सबसे बड़ा अनर्थ और जघन्य अपराध उन लोगों के प्रति है, जिन्होंने टीकों के अभाव में अपनी जान गंवाई है। यह उसके अपराधी हैं। इन अपराधियों को कटघरे में खड़ा करना चाहिए, जिन्होंने टीकाकरण का विरोध किया था। जब अब्बा जान टीका लगवाते हैं तो कहते हैं कि हां हम भी लगवाएंगे।

सपा सदस्यों ने आपत्ति जताई तो सभापति कुंवर मानवेंद्र सिंह ने उन्हें बैठने को कहा। लेकिन सपाईयों ने जोरदार नारेबाजी जारी रखी। वो एक बार सदन के बीचोबीच आ गए। योगी ने कहा- अभी तो मैंने किसी का नाम ही नहीं लिया है। मैं जानना चाहता हूं कि अब्बा जान कब से असंसदीय शब्द हो गया। सपा को मुस्लिम वोट तो चाहिए पर अब्बा जान शब्द से परहेज है।

नेता विपक्ष अहमद हसन ने इस मुद्दे पर कहा कि मुख्यमंत्री ने जिस भाषा का प्रयोग किया है, वह बहुत अमर्यादित और तकलीफ देह है। समाजवादी पार्टी को सिर्फ मुस्लिम ही नहीं बल्कि सभी का वोट चाहिए। मुख्यमंत्री का जो तरीका धमकाने वाला है, वह ठीक नहीं है। सदन में मर्यादित भाषा का इस्तेमाल होना चाहिए।

गौरतलब है कि ‘अब्बा जान’ शब्द को लेकर पिछले दिनों समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच शब्द बाण चले थे। अखिलेश ने खुद को भाजपा के नेताओं से बड़ा हिंदू बताया था। इस पर योगी ने उन पर तंज करते हुए कहा था कि अखिलेश के अब्बा जान (मुलायम सिंह यादव) कहते थे कि अयोध्या में परिंदे को भी पर नहीं मारने देंगे लेकिन अब वहां राम मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है।