यूपीः किसान बोल रहे, गांव में नहीं आ रहे डॉक्टर, कहा- काहे की वैक्सीन, जिसके दो इंजेक्शन लगे वो ही मर गए

किसानों ने कहा कि आसपास के कई इलाकों में लोगों को वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगी है। साथ ही वहां मौजूद कई किसानों ने कहा कि इस महामारी के कारण तो लोग एक दूसरे के पास भी नहीं जा पा रहे हैं।

farmers, coronavirus, farm laws

देश में एक तरफ कोरोना का संक्रमण काफी तेजी से फ़ैल रहा है तो दूसरी तरफ किसान अपने खेतों में भी लगे हुए हैं। उत्तर प्रदेश के कई इलाकों में कोरोना महामारी होने के बावजूद किसान गन्ने की कटाई में लगे हुए हैं। हालांकि किसानों को कोरोना संक्रमित होने का खतरा भी बना हुआ है। किसानों का यह भी आरोप है कि सरकार उनलोगों तक कोरोना का टीका उपलब्ध नहीं करवा रही है।

दरअसल न्यूज 24 के पत्रकार राजीव रंजन ने मेरठ में गन्ना किसानों से बात करने पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने किसानों से कोरोना टीका और बचाव को लेकर सवाल पूछा। इसपर किसानों ने जवाब देते हुए कहा कि गांव में कोई भी डॉक्टर कोरोना का टीका लगाने के लिए नहीं आ रहा है। साथ ही कई किसानों ने यह भी कहा कि कुछ लोग तो टीका लगवाने के बावजूद मर जा रहे हैं, फिर यह वैक्सीन काहे की है।

इसके अलावा किसानों ने कहा कि आसपास के कई इलाकों में लोगों को वैक्सीन की एक भी डोज नहीं लगी है। साथ ही वहां मौजूद कई किसानों ने कहा कि इस महामारी के कारण तो लोग एक दूसरे के पास भी नहीं जा पा रहे हैं। लोग कोरोना संक्रमितों शवों के अंतिम संस्कार में भी शामिल होने से डर रहे हैं। पहले तो लोग के एक दूसरे के सुख दुख में शामिल होते थे लेकिन आजकल पास जाने से भी डर रहे हैं।

आगे किसानों ने कहा कि चाहें मरें या जियें लेकिन किसानों को काम तो करना ही पड़ेगा। साथ ही किसानों ने कहा कि लोगों में डर का माहौल जरूरी है। कोरोना की वजह से किसानों में भी भय है। पहली लहर में लोग नहीं डरे लेकिन इस लहर में सबको डर लग रहा है। किसानों ने यह भी कहा कि पंचायत चुनाव के बाद ही ग्रामीण इलाकों में कोरोना फैला है, पहले इतनी ज्यादा ख़राब स्थिति नहीं थी लेकिन पंचायत चुनाव होने की वजह से ऐसी स्थिति हो गई है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 21,331 नए मामले सामने आए। वहीं करीब 278 लोगों की मौत इस महामारी की वजह से हो गई। राज्य में अभी कुल 2,25,271 एक्टिव मामले हैं। हालांकि पिछले 24 घंटे में करीब 29,709 लोग डिस्चार्ज भी हुए हैं।