यूपीः शमशान से लाशों के कपड़े उतारकर बेचते थे बाजार में, पुलिस ने सात को धरा

एक अधिकारी ने रविवार को कहा कि एक स्थानीय कपड़ा व्यापारी और उनके सहयोगी श्मशान और कब्रिस्तान से मृतकों के कपड़े चुराते थे और कंपनी का ट्रेडमार्क लगाने के बाद उन्हें बाजार में बेच देते थे।

Uttar Pradesh, Police,Dead body

उत्तर प्रदेश के बागपत में पुलिस ने सात लोगों को गिरफ्तार किया है। ये सभी लोग कब्रिस्तान और श्मशान घाट से कफन चोरी कर के बेचते थे। पुलिस के अनुसार बागपत के बड़ौत कोतवाली इलाके में यह गिरोह सक्रिय था। ये कफन और शव पर डाला गया चादर चुरा लेते थे।

सर्कल ऑफिसर आलोक सिंह ने रविवार को कहा कि एक स्थानीय कपड़ा व्यापारी और उनके सहयोगी श्मशान और कब्रिस्तान से मृतकों के कपड़े चुराते थे और कंपनी का ट्रेडमार्क लगाने के बाद उन्हें बाजार में बेच देते थे। उन्होंने कहा कि आरोपी पिछले 10 वर्षों से इस कृत्य में लिप्त हैं और कपड़ा व्यापारी इन लोगों को इसके बदले में प्रतिदिन 300 रूपये देते थे। गिरफ्तार लोगों की पहचान कपड़ा व्यापारी प्रवीण जैन, उनके बेटे आशीष जैन, भतीजे ऋषभ जैन और सहयोगी राजू शर्मा, श्रवण शर्मा, बबलू कश्यप और शाहरुख खान के रूप में हुई है।

पुलिस ने गिरफ्तार लोगों के पास से 520 बेडशीट, 127 कुर्ते, 140 शर्ट, 34 धोती और 112 ट्रेडमार्क स्टिकर बरामद किया है। सभी लोगों पर पुलिस की तरफ से महामारी अधिनियम के तहत भी मामला दर्ज कर लिया गया है।

बताते चलें कि एक स्थानीय व्यक्ति की तरफ से बड़ौत पुलिस को शिकायत की गयी थी कि इस तरह का एक गैंग सक्रिय है जो ऐसी घटनाओं को अंजाम दे रहा है। बताते चलें कि इससे पहले पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार किया था जो गंगा किनारे घाट पर अंतिम संस्कार के एवज में 15-15 हजार रुपये लोगों से ले रहा था।

गौरतलब है कि देश में कोरोना कहर लगातार बढ़ रहा ह ऐसे में ऐसी घटनाओं से महामारी के और भी अधिक बढ़ने की संभावना रहती है। बताते चलें कि कोरोना के प्रकोप को रोकने के लिए दिल्ली और उत्तर प्रदेश में रविवार को क्रमश: लॉकडाउन और कोरोना कर्फ्यू की मियाद 17 मई तक बढ़ा दी गई है। वहीं देश के बड़े हिस्से में सख्त पाबंदियां लागू है। इस बीच रविवार को एक दिन में कोविड-19 के 4,03,738 नए मामले आए जबकि 4,092 लोगों की मौत दर्ज की गई।