यूपी चुनावः किसानों से हेल्थ तक…योगी ने पेश किया 4.5 साल का रिपोर्ट कार्ड, प्रियंका-अखिलेश ने कहा- नहीं चाहिए ठग का साथ…

कांग्रेस नेता ने कहा कि यूपी सरकार को चाहिए था कि 4.5 सालों पर जनता के सवालों का जवाब दे, लेकिन नहीं। फिर झूठ, झूठ और सिर्फ झूठ।

Uttar Pradesh, Yogi Adityanath उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ (फोटो सोर्स – पीटीआई)

उत्तर प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सरकार के चार साल पूरे होने पर रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रिपोर्ट कार्ड जारी किया। उन्होंने कहा कि केंद्र की तरफ से चलाए जा रहे 44 योजनाओं में प्रदेश पहले स्थान पर है। योगी ने स्वास्थ्य से लेकर किसानों तक के लिए सरकार की तरफ से किए जा रहे कार्यों को बताया। विपक्षी दलों ने योगी सरकार को असफल बताया है। अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी ने राज्य की बीजेपी सरकार को ‘ठगका साथ, ठगका विकास, ठगका विश्वास’ वाली सरकार बताया है।

विपक्षी दलों समाजवादी पार्टी, बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस ने जमकर हमला बोला है और सरकार की उपलब्धियों के दावे को हवा-हवाई बताया है।समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष एवं उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने रविवार को ट्वीट के जरिये कहा, “इस दंभी सरकार के 54 माह गुजर गये और अब सिर्फ छह माह बचे हैं।” उन्‍होंने कहा, “किसान, गरीब, महिला और युवाओं पर अत्याचार करने वाली, बेरोजगारी, महंगाई, नफरत, ठप कारोबार के बहकावे, फुसलावे वाली जुमलेबाज सरकार के छह माह बचे हैं। जिसका सच ठग का साथ, ठग का विकास और ठग का प्रयास हो, ऐसी सरकार नहीं चाहिए।”

कांग्रेस नेता ने कहा कि यूपी सरकार को चाहिए था कि 4.5 सालों पर जनता के सवालों का जवाब दे, लेकिन नहीं। फिर झूठ, झूठ और सिर्फ झूठ। उन्होंने कहा कि उत्तरप्रदेश को क्या बनाया भाजपा सरकार ने कुपोषण में नंबर वन,महिलाओं के खिलाफ अपराध में नंबर वन,अपहरण के मामले में नंबर वन,हत्या के मामलों में नंबर वन,दलितों के खिलाफ अपराध के मामले में नंबर वन।

अखिलेश यादव ने कहा, “जिस प्रकार किसान और ग्रामीण जनता आवारा पशुओं की समस्या से बुरी तरह त्रस्त है उससे तो यही लगता है कि उप्र का अगला चुनाव स्वयंभू-तथाकथित ‘दमदार’ बनाम ‘दुमदार’ की समस्या पर होगा।” बहुजन समाज पार्टी (बसपा) अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने अपने ट्वीट में कहा, “उप्र भाजपा सरकार द्वारा ’बदलाव के 4.5 वर्ष’ का विज्ञापन एवं अधिकांश दावे हवा-हवाई तथा जमीनी हकीकत से बहुत दूर हैं और इनकी कथनी व करनी में अंतर होने के कारण यहां की बढ़ती गरीबी, बेरोजगारी और महंगाई आदि से जनता की बदहाली जग-ज़ाहिर है।”