यूपी चुनावः दिवाली में 18 लाख दीये जलाने का प्लान, मोदी बोले- जिन्हें राम ने बनाया ‘लखपति’, घर को करें रौशन

उत्तर प्रदेश की पिछली सरकार पर पीएम मोदी ने कहा कि, मंजूरी मिलने के बाद भी पिछली सरकार में 18 हजार घर भी नहीं बन पाए। गरीबों के लिए यहां की पिछली सरकार घर नहीं बनाना चाहती थी।

PM Narendra modi, modi in lucknow, BJP लखनऊ में एक कार्यक्रम के दौरान पीएम नरेंद्र मोदी(फोटो सोर्स: PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश में ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री आवास योजना-शहरी के तहत बनाए गए घरों की डिजिटली चाभी 75 ज़िलों के 75,000 लाभार्थियों को सौंपीं। इस दौरान उन्होंने कहा कि इस योजना के जरिए लोगों को लखपति बनने का मौका मिला। लोगों से आग्रह करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि भगवान राम ने उन्हें “लखपति” बनाया, ऐसे में उनके नाम पर इस दीवाली अपने घरों के बाहर दो-दो दीये जलाएं।

भगवान राम होंगे खुश’: पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि, “यूपी आया हूं तो कुछ होमवर्क देने का मन कर रहा है। कहा जा रहा है कि इस बार दिवाली के मौके पर अयोध्या में साढ़े सात लाख दीये जलाए जाएंगे। मैं उत्तर प्रदेश के लोगों से कहता हूं कि वो रोशनी की इस प्रतियोगिता में हिस्सा लें। फिर देखते हैं कि अयोध्या में अधिक दीये जलते हैं या फिर 9 लाख लाभार्थी मिलकर 18 लाख दीये जलाते हैं। ऐसा करने से भगवान राम खुश होंगे।”

ऐसे हुए लोग लखपति: अपने संबोधन में प्रधानमंत्री ने कहा कि, हमारे यहां कुछ लोगों का कहना है कि मोदी ने क्या किया? पहली बार मैं ऐसी बात बताना चाहता हूं कि, मेरे जो साथी झुग्गी-झोपड़ी में अपनी जिंदगी बिताते थे, उनके घर नहीं थे, उन लोगों के पास पक्की छत नहीं थी, इस योजना के जरिए उन्हें पक्के घर मिले। ऐसे तीन करोड़ परिवारों को लखपति बनने का मौका मिला है। प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जिन लोगों को लाभ मिला है, उन घरों की आप कीमत लगाइए, ये लोग अब लखपति हो चुके हैं। उन्होंने कहा कि, इस तरह से देश में करीब-करीब 3 करोड़ घर बनाए गए हैं।

वहीं पीएम मोदी ने कहा कि, नौ लाख गरीबों को योगी सरकार में इस योजना के तहत आवास मिला है। पिछली सरकार मंजूरी के बाद 18 हजार घर भी नहीं बन पाई। यहां की पिछली सरकार गरीब लोगों के लिए घर नहीं बनाना चाहती थी। इसके लिए हमें उनकी मिन्‍नतें करनी पड़ती थीं। बता दें कि पीएम मोदी ने मंगलवार को यूपी की राजधानी लखनऊ में 4737 करोड़ की 75 परियोजनाओं का उद्घाटन किया और आधारशिला रखी।