यूपी चुनावः लागत बढ़ी, सरकार का पक्ष हो सकता है, पर जल्द बढ़ेंगे दाम- किसानों से नाइंसाफी पर बोले मंत्री संजीव बालियान

केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान ने कहा है कि यूपी में जल्द गन्ने के दाम बढ़ेंगे और इसका फायदा किसानों को मिलेगा। उन्होंने स्वीकार किया कि अब तक गन्ने की कीमत बढ़ जानी चाहिए थी।

यूपी में मूल्य वृद्धि का इंतजार कर रहे गन्ना किसान। फोटो- एक्सप्रेस आर्काइव

कृषि कानूनों को लेकर किसानों का आंदोलन उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए चुनौती साबित हो सकता है। ऐसे में योगी सरकार किसानों को साधने की हर कोशिश कर रही है। इस काम में केंद्र सरकार भी साथ दे रही है। बीते दिनों रबी की फसलों पर एमएसपी को बढ़ाने की घोषणा की गई थी। हालांकि किसानों की कई मांगें ऐसी भी हैं जिनपर अभी सरकार ने कोई कदम नहीं उठाया है। प्रदेश के किसान गन्ना मूल्य वृद्धि को लेकर सरकार से आस लगाए हुए हैं।

गन्ना किसानों की परेशानी और मूल्य वृद्धि को लेकर जब केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान से सवाल किया गया तो उन्होंने स्वीकार किया कि अब तक गन्ने का मूल्य बढ़ जाना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हो पाया। उन्होंने कहा कि उम्मीद है कि 26 तारीख को इसपर फैसला लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि चार साल की कसर अब उत्तर प्रदेश में पूरी हो जाएगी।

न्यूज 24 पर मंथन कार्यक्रम में संजीव बालियान हिस्सा ले रहे थे। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि ये मुद्दे किसान से जुड़े हैं, राजनीति से नहीं हैं। उन्होंने कहा कि मुझे चिंता है कि कहीं यह आंदोलन गलत दिशा में जाकर भटक ना जाए। बता दें कि उत्तर प्रदेश में चुनावी तैयारियां जोरों पर हैं और यहां क लगभग 49 लाख गन्ना किसान मूल्य वृद्धि को लेकर आस लगाए हुए हैं।

केंद्रीय मंत्री ने गन्ना किसानों के बकाया भुगतान को लेकर कहा कि हमारे यहां सिर्फ एक मिल को छोड़कर बाकी कहीं दिक्कत नहीं है। अन्य शुगर मिलें बहुत अच्छा पेमेंट करती हैं। उन्होंने कहा कि जहां तक गन्ने की मूल्य वृद्धि की बात है, योगी सरकार से इस बारे में बात हुई है। उन्होंने अच्छा संकेत दिया है और जल्द ही गन्ने का रेट बढ़ने जा र हा है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन और कृषि कानूनों से इसका कोई लेना देना नहीं है। गन्ने का कोई एमएसपी भी नहीं होता है।

किसान महापंचायत को लेकर भी बालियान ने कहा कि बड़ी मुश्किल से इस जिले में शांति कायम हुई है। कोई भी ऐसा काम नहीं होना चाहिए जिससे शांति भंग हो। उन्होंने कहा कि 2022 के चुनाव में जनता बता देगी कि वह किसके साथ है।