ये भी मास्टर स्ट्रोक है क्या? गुजरात कैबिनेट से हटाए गए सभी पुराने मंत्री तो कांग्रेस नेता ने ली चुटकी, एक्टर ने भी किया सवाल

विजय रुपाणी अगस्त 2016 में आनंदी बेन पटेल की जगह मुख्यमंत्री बनाए गए थे। रुपाणी के नेतृत्व में ही भाजपा ने 2017 विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की थी।

Srinivas BV, गुजरात, PM Narendra Modi, Modi-Shah नए सीएम भूपेंद्र पटेल (फोटो सोर्स- (Express photo by Nirmal Harindran)

गुजरात में चल रही राजनैतिक उठा-पटक के बीच सीएम भूपेंद्र पटेल ने अपनी पूरी टीम नई बनाई है। गांधीनगर के राजभवन में कैबिनेट के शपथ ग्रहण में 24 मंत्रियों ने शपथ ली। दरअसल, गुजरात कैबिनेट से सभी पुराने मंत्री हटाए गए तो कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने इस पर चुटकी ली। वहीं बॉलीवुड एक्टर कमाल आर खान ने भी गुजरात में चल रही राजनीति को लेकर सवाल पूछा।

कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने तंज भरे अंदाज में कहा- ‘क्या मो-शाह द्वारा गुजरात सरकार के शूट-आउट पर कोई प्राइमटाइम बहस चल रही है? आखिर सीएम संग बाकी मंत्री क्यों बदले गए? क्या ये भी कोई मास्टर स्ट्रोक है?’

तो वहीं कमाल आर खान उर्फ केआरके ने भी मजाक उड़ाते हुए सवाल किया- ‘बीजेपी ने गुजरात में सभी ए से जेड मंत्रियों को बदल दिया है, इसका मतलब है कि वे सभी अच्छे नहीं थे। फेयर इनफ।’ पॉलिटिकल एक्टिविस्ट राजीव ध्यानी ने चुटकी लेते हुए कहा- ‘गुजरात में मुख्यमंत्री समेत सभी मंत्री बदल दिए गए। पिछले मंत्रियों में से एक भी व्यक्ति दोबारा मंत्री बनने लायक़ नहीं पाया गया। यानी चार साल से गुजरात नालायकों के भरोसे छोड़ रखा था?’

कांग्रेस नेता सुप्रिया श्रीनेत ने भी तंज कसते हुए सवाल किया- ‘तो मुख्यमंत्री के बाद गुजरात में 24 नए मंत्री लाये गए हैं- साफ़ तौर पर मोदी-शाह की जोड़ी ने गुजरात सरकार की विफलताओं को स्वीकारा। पर बुरी तरह से तो विफल केंद्र सरकार हुई है, तो यहां हुक्मरान अभी तक क्यों बरकरार हैं?’

बता दें, राजभवन में आयोजित इस कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने 10 कैबिनेट मंत्रियों और 14 राज्य मंत्रियों को शपथ दिलाई। इनमें पांच स्वतंत्र प्रभार वाले राज्य मंत्री शामिल हैं। राज्य के 17वें मुख्यमंत्री के रूप में सोमवार को शपथ ग्रहण करने वाले भूपेंद्र पटेल के साथ इस कार्यक्रम में रूपाणी भी मौजूद थे।

विजय रुपाणी अगस्त 2016 में आनंदी बेन पटेल की जगह मुख्यमंत्री बनाए गए थे। रुपाणी के नेतृत्व में ही भाजपा ने 2017 विधानसभा चुनावों में जीत हासिल की थी। गुजरात में विधानसभा चुनावों से ठीक एक साल पहले उनके मुख्यमंत्री के पद छोड़ने को लेकर कई सवाल खड़े हो गए हैं।