राकेश टिकैत ने आरएसएस पर किया हमला, बोले- ये गोडसे का मंदिर बनवाना चाहते हैं, देश में घुसा सरकारी तालिबान

एक सभा के दौरान राकेश टिकैत ने कहा कि लाठी चलाने का आदेश देने वाला अधिकारी सरकारी तालिबान का कमांडर है।

भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश ठिकैत। फोटो- इंडियन एक्सप्रेस By जसवीर माल्ही

हरियाणा के करनाल में किसानों पर हुए लाठी चार्ज के बाद भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत भाजपा सरकार पर और ज्यादा हमलावर हो गए हैं। टिकैत ने एक सभा के दौरान कहा कि सरकार ने लाठी चलवाकर ठीक नहीं किया और इसे भूला नहीं जाएगा। उन्होंने कहा, हमने तो ता-ज़िंदगी लड़ाई लड़ी है। आपने तो न अंग्रेजों की खिलाफ लड़ाई लड़ी और न ही मुगलों के खिलाफ। इसके बाद उन्होंने आरएसएस को निशाने पर लिया।

टिकैत ने कहा, ‘आप बचकर नहीं जाओगा। आप तो महात्मा गांधी की हत्या करने वाले को पूजते हो। इनका क्या रिश्ता है उससे? ये आरएसएस के लोग गोडसे का मंदिर बनवाना चाहते हैं। जो महात्मा गांधी की हत्या करके उनको पूजते हों, ये किस तरह का राष्ट्रवाद है?’ वहीं राकेश टिकैत ने मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक की तारीफ भी की। उन्होंने कहा, बनना है तो सत्यपाल मलिक जैसा बनो, जो गवर्नर होते हुए कह पाते हैं कि खट्टर ने किसानों पर लाठियां चलवाकर गलत किया।

बता दें कि करनाल की घठना के बाद सत्यपाल मलिक ने हरियाणा सरकार पर तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि लाठीचार्ज का आदेश देने वाले अधिकारी को तत्काल बर्खास्त किया जाना चाहिए। उन्होंने 600 किसानों की मौत की बात पर केंद्र सरकार की भी आलोचना की थी। उन्होंने कहा था, केंद्र की तरफ से बल प्रयोग करने का आदेश नहीं हुआ था लेकिन सीएम किसानों को पिटवा रहे हैं।

गौरतलब है कि किसानों का कथित तौर पर सिर फोड़ने का आदेश देने वाले आईएएस अधिकारी आयुष सिन्हा का तबादला हो गया है। सीएम खट्टर ने भी एसडीएम के शब्दों को गलत बताया था।

राकेश टिकैत ने आयुष सिन्हा के मामले में कहा कि वह आरएसएस का बंदा है और आईएएस बन चुका है। ‘सरकारी तालिबानी’ देश में घुस चुके हैं। उन्होंने कहा, अगर आप हमको खालिस्तानी कहेंगे तो हम आपको सरकारी तालिबान कहेंगे। आपका तालिबानी कमांडर करनाल में है और किसान उसको माफ नहीं करेंगे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि सरकार चाहती थी कि इस आंदोलन में कत्लेआम हों।