राजकुमार-दिलीप कुमार की फ़िल्म में मेरा क्या काम- शूटिंग छोड़ सुभाष घई से मिलने गए थे मुकेश खन्ना, ‘सौदागर’ का ऑफर सुन कही थी ये बात

मुकेश खन्ना ने बताया कि सुभाष घई ने जब उन्हें फिल्म ‘सौदागर’ के लिए फोन किया तब उन्होंने उनसे मिलने से मना कर दिया था।

mukesh khanna, dilip kumar, raaj kumar मुकेश खन्ना ने सौदागर में दिलीप कुमार के बेटे का रोल निभाया था (Photo-Indian Express Archive)

1991 में आई फिल्म, ‘सौदागर’ अपने समय की बहुत बड़ी फिल्म थी। इस फिल्म के लिए दशकों बाद राजकुमार और दिलीप कुमार साथ आ रहे थे। सुभाष घई ने दोनों को साथ लाने का कारनामा कर दिखाया था जिसके बारे में बाकी सभी निर्देशकों, निर्माताओं ने सोचना भी छोड़ दिया। मुकेश खन्ना ने इस फिल्म में दिलीप कुमार के बेटे का रोल निभाया था। ये रोल उन्हें तब ऑफर हुआ था जब वो ‘महाभारत’ की शूटिंग में व्यस्त थे।

मुकेश खन्ना ने फिल्म में अपनी कास्टिंग का किस्सा हाल ही में अपने यूट्यूब चैनल, ‘भीष्म इंटरनेशनल’ पर शेयर किया है। उन्होंने बताया कि सुभाष घई ने जब उन्हें फोन किया तब उन्होंने उनसे मिलने से मना कर दिया था। मुकेश खन्ना ने बताया, ‘जिस तरह से मेरी कास्टिंग हुई, जैसे मैंने एक धृष्टता की थी वैसा कोई एक्टर नहीं करेगा, वो भी सुभाष घई जैसे डायरेक्टर के साथ।’

उन्होंने आगे बताया, ‘सुभाष घई किसी को फोन करें तो एक्टर दंडवत होकर पहुंच जाता है। मुझे भी फोन आया और कहा गया कि सुभाष घई ने बुलाया है। मेरी महाभारत की शूटिंग चल रही थी, हम युद्ध की शूटिंग कर रहे थे। भाई साहब के कहा कि सुभाष घई मिलना चाहते हैं। मैंने कहा, कहो मैं नहीं मिला सकता। शाम तक तो शूटिंग है फिर मुझे ‘विश्वामित्र’ की शूटिंग के लिए मद्रास जाना है।’

मुकेश खन्ना ने आगे बताया, ‘मैं शूटिंग करने चला गया। भीष्म पितामह बनकर युद्ध की शूटिंग करने लगा। तभी मेरा भतीजा सेट पर आया और उसने कहा कि सुभाष घई का फोन आया कि मुकेश को कहो मुझसे आकर मिले। मैं रात को लंदन जा रहा हूं, उससे पहले एक बड़ा निर्णय लेना है।’ दूसरी बार सुभाष घई के फोन को मुकेश खन्ना इग्नोर नहीं कर पाए और वो अपने भीष्म पितामह की कॉस्ट्यूम में ही सुभाष घई से मिलने चले गए।

उन्होंने बताया था, ‘उन्होंने मुझे बताया कि राजकुमार और दिलीप कुमार को लेकर फिल्म बना रहा हूं और तुम दिलीप कुमार के बेटे का रोल करोगे। मुझे तो हां करना चाहिए था लेकिन मैंने कहा कि सुभाष जी, अपनी फिल्म में दिलीप साहब हैं, राजकुमार भी हैं, मुकेश खन्ना क्या करेगा उसमें?’

सुभाष घई ने मुकेश खन्ना को बताया कि उनका रोल कितना महत्वपूर्ण है। उनकी बातों से मुकेश खन्ना आश्वस्त हुए और उन्होंने फिल्म के लिए हां कर दिया था।

इस फिल्म में सुभाष घई ने राजकुमार और दिलीप कुमार को कास्ट तो कर लिया लेकिन सेट पर उन्हें काफी मुश्किलें आईं। राजकुमार और दिलीप कुमार के रिश्तों की खटास हालांकि काफी कम हो चली थी। सुभाष घई ने एक बार बताया था कि ‘इमली का बूटा’ गाने की शूटिंग के दौरान राजकुमार ने दिलीप कुमार के डांस स्टेप्स को सुधारने की बात सुभाष घई से कही थी।

सुभाष घई ने बताया था, ‘राजकुमार ने मुझसे कहा कि जानी, साहब से कहो डांस स्टेप्स सही से करें। फिर मैं दिलीप कुमार के पास गया और कहा कि साहब, राज जी बोल रहे हैं कि आप बहुत अच्छा डांस करते हैं। तो दिलीप जी बोले, ‘मैं तो कर रहा हूं, उसको बोलो स्टेप्स ठीक से करे।’