राजस्थान के गांव में कोरोना का खौफ, घरों में लटके ताले, अस्पताल छोड़ गायब हो गए डॉक्टर

राजस्थान के सीकर जिले के दांतरू पंचायत में कोरोना की वजह से लोगों पर मुसीबत आ गई है। खांसी बुखार होने के चलते इस गांव में बीते 15 दिनों में करीब 30 लोगों की मौत हो चुकी है।

corona, sikar , rajasthan

राजस्थान के सीकर जिले के चाचीवाद बड़ा गांव में इन दिनों सन्नाटा पसरा हुआ है। इस गांव में पिछले 15 दिनों में करीब 30 लोगों की मौत हो चुकी है। गांव में लगातार हो रही मौतों की वजह से लोग घर के बाहर निकलने में भी डर रहे हैं। इतना ही नहीं गांव के स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर भी आने से कतरा रहे हैं। साथ ही इस गांव का नाम सुनते ही डॉक्टर यहां के मरीजों के पास फटकने को भी तैयार नहीं हैं।

आजतक की रिपोर्ट के अनुसार राजस्थान के सीकर जिले के दांतरू पंचायत में कोरोना की वजह से लोगों पर मुसीबत आ गई है। खांसी बुखार होने के चलते इस गांव में बीते 15 दिनों में करीब 30 लोगों की मौत हो चुकी है। इतना ही गांव के अधिकांश घरों पर भी ताले लटके हुए हैं। सड़कों पर भी सन्नाटा छाया हुआ है और लोग बाहर निकलने का जोखिम भी नहीं उठाना चाहते हैं। सबसे गंभीर बात तो यह है कि इस गांव में ना तो टेस्ट की सुविधा उपलब्ध है और ना ही किसी तरह का कोई कोविड सेंटर बनाया गया है। 

गांव के लोगों के लिए ना तो ऑक्सीजन और ना ही एम्बुलेंस की व्यवस्था कराई गई है। ग्रामीणों के अनुसार सिर्फ खांसी बुखार आते ही कई लोगों की हालत बेहद गंभीर हो जाती है। कईयों को सांस फूलने की समस्या भी आने लगती है और जबतक अस्पताल ले जाया जाता है तब तक मरीज की मौत हो जाती है। बड़ी संख्या में गांव से कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद जिला प्रशासन ने धारा 144 लगा दिया है लेकिन गांव की स्थिति को देखने के लिए अधिकारी भी यहां आने से परहेज कर रहे हैं।

बीते दिनों सीकर जिले के ही खीरवा गांव में सिर्फ 21 दिनों के अंदर 21 लोगों की मौत हो गई। प्रशासन के अनुसार कुछ दिन पहले खीरवा गांव के ही एक व्यक्ति की मौत कोरोना के कारण हो गई थी। जिसके बाद लोगों ने शव को प्लास्टिक के थैले से निकाल कर उसका अंतिम संस्कार किया था। इतना ही नहीं शवयात्रा में भी कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया था। जिसके बाद गांव के कई लोग कोरोना संक्रमित पाए गए थे। उनमें से कई लोगों की मौत बीते दिनों हो गई थी। 

 

पिछले 24 घंटे में राजस्थान में कोरोना के 14,289 मामले सामने आए। इनमें से सबसे अधिक मामले जयपुर से सामने आए। राजस्थान में अभी भी 2 लाख से ज्यादा एक्टिव मामले हैं। साथ ही करीब 6472 लोगों की मौत इस महामारी की वजह से हो चुकी है।