रूस की मदद के लिए चंदा जुटा रहा है ये चेचन नेता, यूक्रेन के खिलाफ लड़ने भेजी अपनी आर्मी

हाइलाइट्स

कादिरोव ने लोगों से अपनी प्राइवेट आर्मी कादिरोविट्स के लिए फंड की मांग की
रूस को छोटे परमाणु हथियार का उपयोग करने की दे चुके हैं सलाह
कादिरोव अपने तीन किशोर बेटों को यूक्रेन युद्ध में भेजने की बात भी कह चुके हैं

मॉस्को. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के करीबी सहयोगी और चेचन नेता रमजान कादिरोव (Ramzan Kadyrov) ने रूस की तरफ से लड़ रही अपनी प्राइवेट आर्मी के लिए चंदा जुटाने का कैंपेन शुरू किया है. टेलीग्राम पर किये एक मैसेज में कादिरोव ने लोगों से चेचन्या के सुरक्षा बल और कथित तौर पर अपनी प्राइवेट आर्मी कादिरोविट्स के लिए फंड की मांग की है. रूसी भाषा में किये मैसेज में कादिरोव ने कहा कि वह रूसी सेना की मदद करना कभी बंद नहीं करेंगे. उन्होंने कहा कि कोई भी हमारी सेना की मदद कर सकता है, हमारे देश के लिए योगदान दे सकता है. संदेश के साथ ही रमजान कादिरोव ने वीडियो संदेश भी साझा किया है.

लोग दे रहे हैं चंदा
चंदे की अपील करने के बाद लोगों द्वारा भेजे गए पैसों के स्क्रीनशॉट कादिरोव द्वारा शेयर करते हुए धन्यवाद कहा गया. उन्होंने एक व्यक्ति अरमान को दस हजार रूबल देने और व्लादिमीर, सर्गेई एसवीटीएस, झन्ना, स्वेतलाना स्वेतलाया, रूलान, आस्कोल्ड, ल्यूडमिला और एंड्रोमेड को भी धन्यवाद कहा. कादिरोव ने बताया कि ये लोग देशभक्त हैं, हमें समर्थन करने वाले इतने सारे लोगों को देखकर अच्छा लगा.

तीन नाबालिग बच्चों को युद्ध में भेजने की कर चुके हैं बात
चेचन नेता रमजान कादिरोव ने अपने तीन किशोर बेटों को यूक्रेन के खिलाफ युद्ध में लड़ने के लिए भेजने की बात कही है. मिडिल ईस्ट के न्यूज़ चैनल अलजजीरा की एक रिपोर्ट के मुताबिक कादिरोव ने कहा है कि वह रूस की मदद के लिए अपने तीन किशोर बेटों को यूक्रेन में युद्ध में लड़ने के लिए अग्रिम पंक्ति में भेजेंगे. टेलीग्राम मैसेजिंग ऐप पर, कादिरोव ने अपने बच्चों 16 साल के अखमत, 15 साल के एली और 14 साल के एडम का हथियारों के साथ वीडियो पोस्ट किया था.

यूक्रेन में लड़ने वाली एक निजी सेना की कमान संभालने वाले कादिरोव ने इससे पहले मांग की थी कि पूर्वी यूक्रेन में रूसी सेना के कमांडर से उनके पदक छीन लिए जाएं और उन्हें लड़ने के लिए अग्रिम पंक्ति में भेजा जाए. उन्होंने कर्नल-जनरल अलेक्जेंडर लापिन की आलोचना करते हुए उन्हें औसत दर्जे का कहा था. पूर्वी यूक्रेन के प्रमुख शहर लाइमन से रूसी सेना की वापसी के बाद से चेचन नेता ने सैन्य प्रमुखों के खिलाफ बोलना शुरू किया है.

Tags: Russia ukraine war