रूस की संसद ने देश में शामिल किये यूक्रेन के चारों स्टेट, लोगों को मिलने जा रहे हैं ये फायदे

हाइलाइट्स

रूस में राज्यों की कुल संख्या बढ़कर 89 हो गई है
रूसी संसद के अध्यक्ष ने संकेत दिया कि फिलहाल रूस यूक्रेन युद्ध से पीछे नहीं हटने वाला है
यूक्रेन से लड़ने के लिए बनी आर्मी को रूस अपनी सेना में शामिल करेगा

मॉस्को. रूस की संसद स्टेट ड्यूमा ने आधिकारिक रूप से यूक्रेन के चार प्रान्त डोनेट्स्, लुहान्सक पीपुल्स रिपब्लिक, ज़ापोरिज्जिया और खेरसॉन को देश में शामिल करने के लिए अपनी हरी झंडी दे दी है. रूस की संसद में दी गई जानकारी के अनुसार यूक्रेन के चारों क्षेत्रों के प्रमुखों ने व्लादिमीर पुतिन से 27 सितंबर को जनमत संग्रह के बाद रूसी संघ में शामिल करने को लेकर विचार करने को कहा था. जिसके बाद सोमवार को विलय को लेकर पेश किये गए बिल को स्टेट ड्यूमा के सदस्यों ने सर्वसम्मति से पास कर दिया.

संसद के अध्यक्ष ने किया स्वागत
अपने टेलीग्राम चैनल पर राज्य ड्यूमा के अध्यक्ष व्याचेस्लाव वोलोडिन ने कहा कि यूक्रेन के आपराधिक शासन से लाखों लोगों के जीवन को बचाने का यह एकमात्र तरीका था. उन्होंने आगे कहा कि चारों प्रांतों के लोगों की मातृ भाषा बोलने के अधिकार, संस्कृति, इतिहास और आस्था की रक्षा के लिए रूस ने चारों क्षेत्रों के प्रमुखों की मांग को माना है.

रूस में बढ़ कर हुए 89 राज्य
डोनेट्स्, लुहान्सक पीपुल्स रिपब्लिक, ज़ापोरिज्जिया और खेरसॉन के रूस में शामिल होने के साथ ही अब रूस में राज्यों की कुल संख्या 89 हो गई है. ड्यूमा के अध्यक्ष ने बताया कि इन क्षेत्रों के निवासी पिछले 30 वर्षों से रूस के साथ पुनर्मिलन की प्रतीक्षा कर रहे थे. साथ ही व्याचेस्लाव वोलोडिन ने जोर देकर कहा कि यूक्रेन में चल रहा विशेष सैन्य अभियान अपने लक्ष्यों और उद्देश्यों निश्चित रूप से प्राप्त करने के लिए किये गए हैं. वोलोडिन ने इशारा दिया कि फिलहाल रूस यूक्रेन युद्ध से पीछे नहीं हटने वाला है. इस मौके पर चारों क्षेत्रों के प्रतिनिधियों ने राज्य ड्यूमा के पूर्ण सत्र में भाग लिया और रूस की संसद के फैसले का स्वागत किया.

चारों प्रांतों के सुरक्षा बल रूसी सेना में होंगे शामिल
यूक्रेन के चारों प्रांतों को रूस में शामिल करने को लेकर सर्वसम्मति से पास हुए प्रस्ताव के साथ ही रूस की संसद ने इन क्षेत्रों के नागरिकों को रूसी नागरिकों की ही तरह मिलने वाले सभी अधिकार दे दिए. इसी क्रम में इन क्षेत्रों में यूक्रेन से लड़ने के लिए बनी आर्मी को रूस अपनी सेना में शामिल करने जा रहा है. साथ ही लेन देन के लिए लोग अब रूबल का इस्तेमाल करेंगे. हालांकि 31 दिसंबर तक इन क्षेत्रों के लोग यूक्रेनी रिव्निया का उपयोग कर सकते हैं.

Tags: Russia ukraine war, Vladimir Putin