रूस ने किया नए मिसाइल डिफेंस सिस्टम का परिक्षण…आकाश से दागे रॉकेट को भी करेगा तबाह

हाइलाइट्स

रूस ने कजाकिस्तान में अपने सैरी शगन फायरिंग रेंज में एक नई मिसाइल रक्षा प्रणाली का सफलतापूर्वक परीक्षण किया
नई मिसाइल रक्षा प्रणाली ने हर बार तय परिणामों को बड़ी कुशलता के साथ प्राप्त किया
यह मिसाइल डिफेंस सिस्टम बेहद सटीकता के साथ सशर्त लक्ष्य को भेद सकता है

मॉस्को. यूक्रेन से युद्ध के बीच अपनी सैन्य ताकत को बढ़ाते हुए रूस ने एक नई मिसाइल रक्षा प्रणाली (Missile Defence System) का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है. मॉस्को टाइम्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक रूस के रक्षा मंत्रालय ने शुक्रवार को घोषणा की कि मॉस्को ने पड़ोसी देश कजाकिस्तान में अपने सैरी शगन फायरिंग रेंज में एक नई मिसाइल रक्षा प्रणाली का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है. मंत्रालय ने अपने बयान में कहा कि मिसाइल रोधी रक्षा प्रणाली रूसी एयर फोर्स को सौंपी गई है, जो देश को हवाई और अंतरिक्ष हमलों से बचाएगी.

वहीं रूस की मिसाइल रक्षा इकाई के प्रमुख मेजर जनरल सर्गेई ग्रेबचुक ने कहा कि परीक्षणों की एक श्रृंखला के बाद नई मिसाइल रक्षा प्रणाली ने हर बार तय परिणामों को बड़ी कुशलता के साथ प्राप्त किया है. उन्होंने आगे कहा कि यह मिसाइल डिफेंस सिस्टम बेहद सटीकता के साथ सशर्त लक्ष्य को भेद सकता है फिर चाहे अंतरिक्ष से ही मिसाइल क्यों न दागी गई हो.

मॉस्को के आसपास डिफेंस सिस्टम को अपग्रेड कर रहा रूस

यूक्रेन युद्ध के बाद अप्रत्यक्ष रूप से पश्चिमी देशों से लड़ रहा रूस अब अपनी राजधानी को किसी भी बड़े हमले से बचाने के लिए तैयार होना चाहता है. पहले से ही अगली पीढ़ी की एस-500 हाइपरसोनिक मिसाइल रक्षा प्रणाली से लेस रूस अपने शहरों को अभेद्य बनाने में जुटा हुआ है. यूक्रेन पर हमले में मिले झटकों के बाद, रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगू ने बुधवार को लड़ाई में अगली पीढ़ी के हथियारों का उपयोग करने के पक्ष में बात की. एक सरकारी बोर्ड की बैठक में बोलते हुए शोइगु ने कहा कि सशस्त्र बलों को लगातार हथियारों और उपकरणों की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए 2023 में राज्य के रक्षा बजट में 150% की वृद्धि होने की उम्मीद है.

Tags: Russia, Russia ukraine war, World news