लखीमपुर पर बोले राकेश टिकैत- गेस्ट हाउस में रहता है मंत्री का बेटा, केंद्रीय मंत्री को आगरा की जेल में बंद करो

टिकैट ने कहा कि गेस्ट हाउस में किससे पूछताछ होती है? पूछताछ तो रात में थाने में की जाती है, दिन में कोई पूछताछ नहीं होती।

Rakesh Tikait उन्होंने कहा कि अजय मिश्रा देश के गृह राज्य मंत्री हैं, उसके बेटे से भला कौन पूछताछ कर सकता है। (फोटो सोर्स – पीटीआई)

यूपी के लखीमपुर का मामला पूरे देश में चर्चा का विषय बना हुआ है। इस केस में मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा की गिरफ्तारी हो चुकी है, लेकिन विपक्ष योगी सरकार पर लगातार हमले कर रहा है।

किसान नेता राकेश टिकैट ने इस मुद्दे को लेकर न्यूज चैनल ‘आज तक’ से बातचीत की है। जब संवाददाता ने उनसे पूछा कि आशीष की गिरफ्तारी हो चुकी है, अब आपका अगला पड़ाव क्या होगा?

इस पर टिकैत ने कहा कि आशीष की गिरफ्तारी रेड कारपेट बिछाकर की गई है। जब तक अजय मिश्रा टेनी की गिरफ्तारी नहीं होगी और जब तक वह इस्तीफा नहीं देंगे, तब तक प्रशासन के लोग भी कुछ नहीं कर सकते।

ये भी पढ़ें: पंजाब सरकार पर फंस गए आप, नहीं दे पा रहे हैं जवाब – राकेश टिकैत से बोले एंकर, किसान नेता के तरफ से आई ऐसी प्रतिक्रिया

उन्होंने कहा कि अजय मिश्रा देश के गृह राज्य मंत्री हैं, उसके बेटे से भला कौन पूछताछ कर सकता है। इसलिए जो अधिकारी पूछताछ कर रहे हैं, उनके नाम गुप्त रखे जाना चाहिए। इसलिए दोनों लोग गिरफ्तार हों और उनका मंत्री पद भी जाना चाहिए, उसके बाद ही जांच की शुरुआत हो पाएगी।

टिकैट ने कहा कि गेस्ट हाउस में किससे पूछताछ होती है? पूछताछ तो रात में थाने में की जाती है, दिन में कोई पूछताछ नहीं होती। उन्होंने कहा कि इन बाप-बेटों को आगरा की जेल में बंद करके पूछताछ की जानी चाहिए, तभी ये बताएंगे कि इनके गैंग में कौन लोग शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि अगर वकील की मौजूदगी में माला डालकर पूछताछ होगी तो ये कानून तो दूसरो के लिए भी लागू हो जाएगा। ये पूरा देश बंधन से मुक्ति चाहता है।

बता दें कि इससे पहले टिकैट का बयान सामने आया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा अगर इस्तीफा नहीं देते हैं तो वे आंदोलन करेंगे।

भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के प्रवक्ता टिकैत का कहना है कि जब तक आरोपी आशीष मिश्रा के पिता अजय मिश्रा मंत्री पद पर बने हुए हैं, तब तक निष्पक्ष जांच का होना संभव नहीं है। इसलिए अजय मिश्रा अपने पद से इस्तीफा दें।