लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी को खत्म करना चाहता है बवानिया गैंग, आतंकी से मिलाया हाथ

दिल्ली में नीरज बवानिया गैंग लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी की हत्या करना चाहता है. इसके लिए उन्होंने विदेश में बैठे आतंकी से गठजोड़ किया था. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने इस साजिश का पर्दाफाश किया है.

स्पेशल सेल ने बताया, “कनाडा में बैठे खालिस्तानी आतंकी ने दिल्ली में गैंगस्टर नीरज बवानिया से हाथ मिलाया था. इसके बाद प्लानिंग के तहत दिल्ली के एक कारोबारी से 5 करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी जा रही थी. इन पैसों से आधुनिक हथियार खरीदकर बड़े गैंगवार को अंजाम दिया जाना था. मामले में नीरज बवानिया गैंग के दो शूटरों को गिरफ्तार किया है.” 

दरअसल, लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी गैंग पर हमला करने के लिए कनाडा में बैठे खालिस्तानी आतंकी अर्शदीप डाला और तिहाड़ में बंद नीरज बवानिया ने ये प्लानिंग की थी. पुलिस ने पंजाब की पटियाला जेल से सनी डागर नाम के गैंगस्टर को गिरफ्तार किया है, जबकि दूसरे आरोपी को दिल्ली से पकड़ा गया है.

स्पेशल सेल की तफ्तीश में खुलासा हुआ है की कनाडा में बैठा खालिस्तानी आतंकी अर्शदीप सिंह उर्फ अर्श डाला ने दिल्ली के कुख्यात गैंगस्टर नीरज बवानिया के गैंग से हांथ मिला लिया है. दिल्ली के बिजनसमैन से 5 करोड़ की रंगदारी इसी नए आतंकी-गैंगस्टर गठजोड़ के तहत मांगी गई थी. 

     शूटर गिरफ्तार

स्पेशल सेल के डीसीपी राजीव रंजन ने बताया की दिल्ली के वसंतकुंज इलाके में रहने वाले कारोबारी ने शिकायत दी थी की उन्हें लगातार नीरज बवानिया के नाम से जान से मारने की धमकी दी जा रही है, ये धमकी इंटरनेशनल कॉल से की जा रही थी. जांच में पाया गया की जिस नंबर से कॉल किया जा रहा था वो वर्चुअल नंबर था.

कारोबारी से मांगे जा रहे थे पांच करोड़ रु

स्पेशल सेल ने टेक्निकल जांच के बाद पाया की धमकी भरी कॉल सनी डागर नाम के एक बदमाश ने की थी जो नीरज बवानिया गैंग से जुड़ा हुआ है. पुलिस को जानकारी मिली थी कि डागर पंजाब की पटियाला जेल में बंद है.

दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की टीम पटियाला जेल पहुंची और सनी डागर से पूछताछ की. पूछताछ में सनी ने स्वीकार किया कि उसने ही जेल से व्यापारी को धमकी भरा कॉल किया था.

पूछताछ में सनी ने खुलासा किया की द्वारका में रहने वाले पुष्पेंद्र नाम के शख्स ने ही कारोबारी की टिप दी थी और बताया था कि उसके पास बहुत पैसा है. पुष्पेंद्र ने व्यापारी का नंबर भी सनी को मुहैया कराया था.

सनी ने पूछताछ में बताया किया की वो जेल में बैठे-बैठे कनाडा में मौजूद खालिस्तानी आतंकी अर्शदीप डाला से सोशल मीडिया के जरिए सीधा संपर्क में था.

अर्श डाला और नीरज बवानिया कर रहे थे प्लानिंग

सनी ने खुलासा किया की कनाडा में बैठा अर्श डाला, जेल में बंद नीरज बवाना और नवीन बाली से अपने विरोधी गैंग लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी को खत्म करने की प्लानिंग कर रहा था.

लारेंस बिश्नोई-काला जठेड़ी गैंग पर हमला करने के लिए अत्याधुनिक हथियार की जरूरत थी इसलिए सनी ने प्लानिंग के तहत कारोबारी से 5 करोड़ की रंगदारी मांगी थी. प्लान ये था की रंगदारी के पैसों से हथियार खरीदा जाए और फिर विरोधी गैंग पर हमला किया जाए.

पुलिस ने पूछताछ के बाद पटियाला जेल से सनी डागर और दिल्ली से पुष्पेंद्र को गिरफ्तार कर लिया है. स्पेशल सेल के मुताबिक कनाडा में मौजूद अर्शदीप डाला पंजाब का गैंगस्टर है जो भारत से फरार होकर कनाडा पहुंचा और वहां खालिस्तानी आतंकियों के संपर्क में आया.

अर्शदीप डाला पर पंजाब में टारगेट किलिंग करवाने का आरोप है और उस पर 13 से ज्यादा मामले दर्ज हैं. अर्शदीप डाला को खालिस्तान टाइगर फोर्स के आतंकी हरदीप सिंह निज्जर ने कट्टरता का पाठ पढ़ाया था जिसके बाद अर्शदीप ने डेरा सच्चा सौदा के 2 फॉलोअर्स की साल 2020-21 में हत्या कर दी थी.