वह अपनी बात पर कायम नहीं रहतीं- पत्नी जया के लिए अमर सिंह से बोल पड़े थे अमिताभ बच्चन; जानिये फिर क्या हुआ था

जया बच्चन का राजनीति में आना कहीं न कहीं उनके पति व एक्टर अमिताभ बच्चन को पसंद नहीं था। उन्होंने जया बच्चन के राजनीति में आने से पहले अपने खास दोस्त और नेता अमर सिंह को चेतावनी भी दी थी।

Amitabh bachchan, jaya bachchan

बॉलीवुड की मशहूर एक्ट्रेस जया बच्चन ने अपने काम से फिल्मी दुनिया में जबरदस्त पहचान बनाई। उन्होंने फिल्म ‘गुड्डी’ से सिनेमा में कदम रखा था और अपनी एक्टिंग से सबका दिल जीत लिया था। बॉलीवुड की मशहूर अदाकारा बनने के बाद जया बच्चन ने राजनीति में भी अपना खूब सिक्का जमाया है। वह 2004 से ही समाजवादी पार्टी की तरफ से राज्यसभा की सदस्य रही हैं। लेकिन उनका राजनीति में आना कहीं न कहीं उनके पति और एक्टर अमिताभ बच्चन को पसंद नहीं था। उन्होंने जया बच्चन के राजनीति में आने से पहले अपने खास दोस्त और नेता अमर सिंह को चेतावनी भी दी थी।

अमर सिंह ने इस बात का खुलासा अपने इंटरव्यू के दौरान किया था। बीबीसी हिंदी की रिपोर्ट के मुताबिक अमर सिंह ने बताया कि जया बच्चन को समाजवादी पार्टी में लेने से पहले अमिताभ बच्चन ने उन्हें मना किया था। साथ ही उन्होंने अमर सिंह को चेतावनी भी दी थी कि वह जया बच्चन को राजनीति में ले जाकर गलती हैं।

इस बारे में बात करते हुए अमर सिंह ने अपने इंटरव्यू में कहा, “आप यह गलती कर रहे हैं कि आप जया को राजनीति में लेकर जा रहे हैं। वह स्थितप्रज्ञ महिला नहीं हैं। वह अपनी किसी भी बात पर कायम नहीं रहती हैं।” इसके साथ ही अमर सिंह ने बताया था कि अमिताभ बच्चन ने उन्हें जया बच्चन को पार्टी में न लेने की भी राय दी थी।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक जया बच्चन ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि अमर सिंह ने ही समाजवादी पार्टी से उनका परिचय करवाया था। इसके बाद मुलायम सिंह ने जया बच्चन को अपनी पार्टी से राज्यसभा सदस्य बनने का मौका दिया था। इस बात को लेकर एक्ट्रेस ने दोनों का धन्यवाद भी किया था।

जया बच्चन ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि वह बचपन से ही राजनीति से जुड़ी चीजों से घिरी रहती थीं। उनके पिता एक पॉलिटिकल रिपोर्टर थे, ऐसे में राजनीति से जुड़ना उनके लिए आम बात थी। वहीं, अमिताभ बच्चन के चुनाव लड़ने के दौरान, उनके प्रचार के दौरान भी वह उनके साथ रहती थीं। जया बच्चन ने बताया कि वह अमिताभ बच्चन के सांसद बनने के बाद कई बार उनके ऑफिस भी जाती थीं और वहां का काम देखती थीं।