शनिवार को देशभर में कोरोना के 23 हजार मामले, संक्रमण से 240 लोगों की मौत

भारत में कोविड-19 रोधी टीके की अब तक 90 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को यह जानकारी दी।

coronavirus vaccine, india news, national news सरकारी अस्पताल में कोरोना टीका लगवाती महिला। (फाइल फोटोः पीटीआई)

देश में शनिवार को रात साढ़े ग्यारह बजे तक 30 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में कोरोना विषाणु संक्रमण के 23,167 मामले दर्ज किए गए। वहीं, इस दौरान 240 लोगों की संक्रमण की वजह से मौत हुई। ये आंकड़े राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य विभागों की ओर से जारी किए गए। इन आंकड़ों में उत्तर प्रदेश, झारखंड, लक्षद्वीप, लद्दाख, अंडमान निकोबार और दादर नागर हवेली व दमन दीव के आंकड़े शामिल नहीं हैं।

देश में कोरोना संक्रमण के सबसे अधिक मामले केरल में दर्ज किए गए। केरल के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक राज्य में कोरोना के 13,217 मामले सामने आए जबकि 121 लोगों की मौत हुई। केरल के अलावा महाराष्ट्र में 2,696, मिजोरम में 1,626, तमिलनाडु में 1,578, आंध्र प्रदेश में 865, पश्चिम बंगाल में 761, कर्नाटक में 636, ओड़ीशा में 478, असम में 246, तेलंगाना में 201, मणिपुर में 136, मेघालय में 130, जम्मू कश्मीर में 124, हिमाचल प्रदेश में 89, पुदुचेरी में 82, गोवा में 79, पंजाब में 35, दिल्ली में 33, नगालैंड में 30, गुजरात में 27, सिक्किम में 25, त्रिपुरा में 15, हरियाणा में 14, अरुणाचल प्रदेश में 13, छत्तीसगढ़ में आठ, राजस्थान में छह, उत्तराखंड में पांच, मध्य प्रदेश में पांच, बिहार में चार और चंडीगढ़ में तीन मामले दर्ज किए गए।

भारत में कोविड-19 रोधी टीके की अब तक 90 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शनिवार को यह जानकारी दी। उल्लेखनीय है कि कोविड-19 से बचाव के लिए देशव्यापी टीकाकरण अभियान की शुरुआत 16 जनवरी को स्वास्थ्य कर्मियों को टीके की खुराक देने के साथ हुई थी जबकि दो फरवरी से अग्रिम मोर्चे पर कार्यरत कर्मियों के टीकाकरण की शुरुआत की गई।

मांडविया ने ट्वीट किया, ‘‘शास्त्री जी ने नारा दिया था ‘जय जवान-जय किसान’। इस नारे में अटल जी ने ‘जय-विज्ञान’ जोड़ा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने ‘जय अनुसंधान’ का नारा दिया। आज अनुसंधान का नतीजा कोरोना टीका है। जय अनुसंधान।’’

कोविड-19 टीकाकरण के अगले चरण की शुरुआत एक मार्च को हुई, जिसके तहत 60 साल से ऊपर और गंभीर बीमारियों से ग्रस्त 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण की शुरुआत की गई। एक अप्रैल से 45 साल से अधिक उम्र के सभी लोगों के लिए टीकाकरण अभियान शुरू हुआ जबकि सरकार ने इसका विस्तार करते हुए एक मई से सभी वयस्कों के टीकाकरण की शुरुआत की।