श्मशान से गंगा तक, मां गंगा ने किसे बुलाया- गंगा में मिले शव तो पत्रकार ने साधा निशाना, बॉलीवुड एक्टर भी भड़के

बिहार के बक्सर जिले में गंगा नदी से बहती हुई लाशें बरामद हुई हैं जिस पर एक्टर दिव्येंदु शर्मा ने अपना गुस्सा जाहिर किया है। पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने भी इस पर कड़ी टिप्पणी की है और कहा है कि….

divyenndu sharma, punya prasun bajpai, covid 19

कोरोना वायरस महामारी से देश में मृतकों को संख्या में लगातार इजाफा हो रहा है। इसी बीच केंद्र सरकार पर यह आरोप भी लग रहे हैं कि कोरोना संक्रमण से होनेवाली मौतों का आंकड़ा छुपाया जा रहा है। ऐसे में गंगा और यमुना नदियों से मिलती लाशों पर सवाल उठने लगे हैं। सोमवार को बिहार के बक्सर जिले के चौसा प्रखंड के चौसा श्मशान घाट पर गंगा में करीब 40 लाशें तैरती हुई मिली है। स्थानीय प्रशासन ने यह संभावना जताई है कि ये लाशें उत्तर प्रदेश से बहकर आई हैं। इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है। वरिष्ठ पत्रकार पुण्य प्रसून बाजपेयी ने भी इस पर कड़ी टिप्पणी की है। वहीं बॉलीवुड एक्टर दिव्येंदु शर्मा ने भी इस पर अपना गुस्सा जाहिर किया है।

दिव्येंदु शर्मा ने अपने ट्विटर अकाउंट से ट्वीट किया, ‘गंगा में बहते शव मिले हैं, ये कहां से कहां आ गए हम। अब दूसरे अन्य राज्यों की तरह उत्तराखंड भी संकट से जूझ रहा है। हम इमरजेंसी जैसे हालात में हैं।’

आपको बता दें कि कोरोना संक्रमण का मामला उत्तराखंड में तेजी से बढ़ रहा है जिस कारण मंगलवार को प्रदेश में लॉकडाउन की अवधि 18 मई तक बढ़ा दी गई है।

गंगा में शवों के मिलने पर पुण्य प्रसून बाजपेयी ने ट्वीट किया, ‘मां गंगा से सत्ता तक.. घर से सड़क, सड़क से अस्पताल, अस्पताल से श्मशान, श्मशान से गंगा तक में… मां गंगा ने किसे बुलाया।’

दोनों ही ट्वीट्स पर यूजर्स की खूब प्रतिक्रिया देखने को मिल रही है। सिद्धार्थ नाम से एक यूजर ने लिखा, ‘देश का दुर्भाग्य है कि जिंदा और मुर्दा नदी में बहाया जा रहा है और सैकड़ों एंबुलेंस में बालू ढोई जा रही है। अगर जमीर जिंदा है तो बताइए क्या सही हो रहा है।’

सुदीप गंभीर नाम से एक यूजर ने दिव्येंदु शर्मा को जवाब देते हुए लिखा, ‘शुक्रिया, कम से कम आपमें इतनी हिम्मत तो है कि आप बोल रहे हैं..बोलने के लिए हिम्मत चाहिए जो कि बाकी एक्टर्स में नहीं है।’ रवीश कुमार पैरोडी अकाउंट से बाजपेयी को जवाब दिया गया, ‘जो बुलाने का ढोंग कर रहा था वो तो गया नहीं मगर देश की निर्दोष जनता को भेज दिया।’

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के हमीरपुर जिले में यमुना नदी से भी शव बरामद किए गए हैं। स्थानीय लोगों का मानना है कि ये शव कोविड-19 से मरने वालों की लाशे हैं लेकिन जिला प्रशासन ने इस दावे को खारिज कर दिया है।