श्रीदेवी को हंटर से मारने के बाद तुरंत कमरे में चले गए थे रंजीत, लगे थे फूट-फूटकर रोने; खुद बताई थी वजह

रंजीत ने अपने इंटरव्यू में बताया था कि शूटिंग के दौरान उन्होंने श्रीदेवी को हंटर से मारा था और उन्हें मारने के बाद वह कमरे में जाकर रोने लगे थे।

ranjeet, sridevi, ranjeet film श्रीदेवी को हंटर से मारने के बाद रोने लगे थे रंजीत (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर रंजीत ने अपनी फिल्मों और अपने अंदाज से हिंदी सिनेमा में जबरदस्त पहचान बनाई है। रंजीत अकसर फिल्मों में विलेन का किरदार निभाते हुए नजर आते थे, उनके इन रोल के लिए उन्हें ‘रेप स्पेशलिस्ट’ भी कहा जाने लगा था। एक फिल्म की शूटिंग के दौरान रंजीत को एक्ट्रेस श्रीदेवी को हंटर से मारना था। उस सीन को करने के बाद एक्टर तुरंत अपने कमरे में चले गए थे और वहां जाकर फूट-फूटकर रोने लगे थे। इस बात का खुलासा खुद रंजीत ने टाइम्स ऑफ इंडिया को दिए इंटरव्यू में किया था।

दरअसल, शूटिंग के दिन ही रंजीत के पिता का निधन हो गया था। इस बारे में बात करते हुए रंजीत ने कहा था, “आपको पता है कि जिस दिन मेरे पिता का निधन हुआ था, उस दिन मैं शूटिंग के लिए हैदराबाद गया था? मैं बिल्कुल चट्टान की तरह हूं, लेकिन जब मेरे पिता का निधन हुआ था तो मैं पत्ते की तरह कांप गया था। रिश्तेदार पूरे देशभर से आने लगे थे, क्योंकि वह घर में सबसे बड़े थे।”

रंजीत ने इस सिलसिले में बात करते हुए आगे कहा था, “लेकिन मैंने फ्लाइट पकड़ी और मैं शूटिंग के लिए आ गया। मैंने शूटिंग करने का फैसला किया था, जिससे मेरे लिए लगाया गया सेट बर्बाद न हो। ऐसे में मैं वहां गया, मैं कैमरे के सामने विलेन की तरह हंसा और वापस अपने कमरे में आकर रोने लगा।”

रंजीत ने श्रीदेवी का जिक्र करते हुए आगे कहा, “मैंने शूटिंग के दौरान श्रीदेवी को हंटर से भी मारा और वापस अपने कमरे में आकर रोने लगा। मैं शॉट के बीच लगातार अपना मुंह सोडे से धुल रहा था, जिससे किसी को भी यह पता न चल सके कि मैं परेशान हूं।” अपने एक इंटरव्यू में रंजीत ने बताया था कि उन्हें विलेन के किरदार से कोई परेशानी नहीं थी, लेकिन एक वक्त पर उनके परिवार को इससे समस्याएं होने लगी थीं।

रंजीत ने इस सिलसिले में कहा था, “विलेन का किरदार निभाने में मुझे कोई परेशानी नहीं थी। शुरुआत में मेरे परिवार को थोड़ी परेशानी हुई, लेकिन बाद में उन्हें भी समझ आ गया था कि यह मेरा काम है। मैंने कभी भी अपने करियर को प्लान नहीं किया, बल्कि जो भी चीजें मेरे रास्ते में आईं, मैंने खुद को उसी में ढाल लिया।”