सरकार को अफगानिस्तान से आए हिंदूओं व सिखों को नागरिकता देनी चाहिए- बॉलीवुड एक्टर ने दी सलाह, मिलने लगे ऐसे जवाब

अफगानिस्तान संकट पर बॉलीवुड एक्टर कमाल राशिद खान ने सलाह दी और कहा कि उन्हें अफगानिस्तान से आए सभी हिंदुओं और सिखों को नागरिकता देनी चाहिए।

afghanistan, krk, pm narendra modi अफगानिस्तान से आए लोगों को लेकर एक्टर ने दी सलाह (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस)

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद से ही लोग वहां से दूसरे देशों में भागने को मजबूर हैं। भारत द्वारा भी अफगान राजधानी से तीन उड़ानों के जरिए दो अफगान सांसदों सहित करीब 392 लोगों को वापस लाया गया। बताया जा रहा है कि भारत ने अमेरिका, कतर और ताजिकिस्तान जैसे कई देशों संग मिलकर यह अभियान चलाया था। वहीं अफगानिस्तान संकट को लेकर हाल ही में बॉलीवुड के मशहूर एक्टर कमाल राशिद खान ने ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने सरकार को सलाह देते हुए लिखा कि उन्हें अफगानिस्तान से आए सभी हिंदुओं और सिखों को नागरिकता देनी चाहिए।

कमाल राशिद खान का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर भी जमकर सुर्खियां बटोर रहा है। अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा, “हमारी सरकार को जाहिर तौर पर अफगानिस्तान से आ रहे हिंदुओं और सिखों को नागरिकता देनी चाहिए। मानवता सभी धर्मों से बड़ी है। ऐसे में हमारी सरकार को उन्हें स्वीकार कर अपना बड़ा दिल दिखाना चाहिए।”

सैयद जवाहर नाम के यूजर ने कमाल राशिद खान के ट्वीट का जवाब देते हुए लिखा, “मुस्लिमों के बारे में क्या ख्याल है? आप उन्हें मानवता के दायरे में नहीं लाते।” कमल नारंग नाम के यूजर ने लिखा, “लगता है बीते सप्ताह से इनका एकाउंट किसी ने हैक कर लिया है।” शुभ्रा सिन्हा नाम की यूजर ने जवाब देते हुए लिखा, “सीएए में यह बात पहले ही जाहिर कर दी गई है। आप लेट हैं।”

वहीं रिया रॉय नाम की यूजर ने कमाल राशिद खान के ट्वीट पर चुटकी लेते हुए लिखा, “आपकी सरकार? आपके पास यूएई की नागरिकता है तो अब आप हमारे लिए केवल विदेशी हो।” पुष्पेंद्र नाम के यूजर ने केआरके के ट्वीट पर कमेंट करते हुए लिखा, “दिल जीत लिया।”

बता दें कि अपने एक ट्वीट में कमाल राशिद खान ने तालिबान और अफगानियों का जिक्र करते हुए लिखा था, “सभी अफगानिस्तान से आए भारतीय कह रहे हैं कि तालिबान उन्हें बिना डरे देश वापस लौटने के लिए कह रहा है और उनकी सुरक्षा का भी वादा कर रहा है। लेकिन लोग अभी भी डरे हुए हैं, ऐसे में वह वहां वापस नहीं जाना चाहते।”