सानिया मिर्जा एक महीने तक कमरे से नहीं निकली थीं बाहर, इंटरव्यू में खोला 13 साल पुराना राज

सानिया ने अपने करियर में छह ग्रैंड स्लैम खिताब जीते हैं। वे कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स और एफ्रो-एशियन गेम्स को मिलाकर 14 मेडल जीत चुकी हैं। इनमें 6 गोल्ड मेडल हैं।

Sania Mirza

भारत की टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने डिप्रेशन के साथ अपनी लड़ाई का खुलासा किया है। सानिया ने एक इंटरव्यू में कहा कि कलाई में चोट लगने के बाद बीजिंग ओलंपिक के पहले दौर के मैच से बाहर होने के बाद वह टूट गई थीं। इसका असर उनके मानसिक स्वास्थ्य पर पड़ा था। सानिया 13 साल पहले चेक रिपब्लिक की इवेस्ता बेनेसोवा के खिलाफ मैच में चोट के कारण बाहर हो गई थीं। उस मैच के बाद क्या इस बारे में उन्होंने खुलासा किया है।

सानिया ने यूट्यूब चैनल ‘माइंड मैटर्स’ के लेटेस्ट एपिसोड में कहा, ‘‘वह काफी दर्द में थी और अब जब वह बड़ी हो गई है, तो उनके पास एक नया विचार है कि क्या हुआ था। 34 साल की उम्र में यह मेरे दिमाग में बहुत स्पष्ट है लेकिन 20 साल की उम्र में बहुत सारी घटनाएं हुईं, जहां मुझे ईमानदारी से लगा कि मैं ऐसा नहीं कर सकती। एक घटना थी जब मुझे ओलंपिक में अपने मैच से बाहर होना पड़ा था। यह 2008 का बीजिंग ओलंपिक था और मुझे कलाई की बहुत बुरी चोट लगी थी। मैं उसके बाद 3-4 महीने तक डिप्रेशन में चली गई थी।’’

सानिया ने इसके बाद डिप्रेशन से अपनी लड़ाई के बारे में बताया। उन्होंने कहा, ‘‘मैं 3-4 महीनों के लिए डिप्रेशन में चली गई थीं। मैं बिना किसी कारण के रोती रहती थी। मुझे याद है कि मैं एक महीने तक खाने के लिए भी घर से बाहर नहीं निकली थी। मुझे ऐसा महसूस हो रहा था कि मैं दोबारा टेनिस नहीं खेल पाऊंगी।’’ सानिया ने अपने करियर में छह ग्रैंड स्लैम खिताब जीते हैं। वे कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम्स और एफ्रो-एशियन गेम्स को मिलाकर 14 मेडल जीत चुकी हैं। इनमें 6 गोल्ड मेडल हैं।

सानिया ने आगे बताया, ‘‘उस मुश्किल घड़ी में उनके परिवार वालों ने उन्हें सही दिशा दिखाई। मैं पूरी तरह से टूट गई थी। इसके बाद मेरी सर्जरी हुई और तब और ज्यादा बुरा हुआ जब मुझे लगा कि मैंने खुद को अपने परिवार को नीचे दिखाया है। मुझे लगा कि मैंने अपने देश का मान गिराया है क्योंकि मैं ओलंपिक से बाहर हो गई हूं।’’