सीएम खट्टर को किसान नेता ने दी चुनौती, कहा- दोनों लट्ठ उठाते हैं, हार गया तो करूंगा आपकी गुलामी

सीएम खट्टर ने कहा- “उठा लो लठ ! उग्र किसानों को तुम भी जवाब दो ! देख लेंगे. दो चार महीने जेल में रह आओगे तो बड़े नेता बन जाओगे!” उन्होंने यह भी कहा कि जमानत की परवाह मत करो।”

Lakhimpur Violence, Farmers Protest हरियाणा के सीएम के बयान और उनके जवाब में किसान नेता की चुनौती से हंगामा मचा हुआ है। (फाइल फोटो)

लखीमपुर खीरी में आठ लोगों की मौत और बवाल के बाद भी नेताओं के बयानों में लगाम नहीं कसी सकी है। घटना के पीछे माना जा रहा है कि नेताओं के भड़काऊ बयान बड़ी वजह रही। इसके चलते ही इतनी बड़ी घटना हुई।

हरियाणा के सीएम मनोहर लाल खट्टर को किसान नेता ने उनके बयान के बाद चुनौती देते हुए कहा है कि हिम्मत है तो वे खुद सामने आकर भिड़ें। कहा कि हार गया तो आपकी गुलामी करूंगा।

दरअसल सीएम मनोहर लाल खट्टर ने हाल ही में चंडीगढ़ में किसान मोर्चा के एक कार्यक्रम में कहा कि “हर इलाके से 1 हजार लट्ठ वाले किसानों का इलाज करेंगे। सीएम खट्टर ने कहा- “उठा लो लठ ! उग्र किसानों को तुम भी जवाब दो ! देख लेंगे. दो चार महीने जेल में रह आओगे तो बड़े नेता बन जाओगे!” उन्होंने यह भी कहा कि जमानत की परवाह मत करो।”

इसके जवाब में किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी ने सीएम को चुनौती दी। कहा चैलेंज दो-दो हाथ करने का है। चढूनी ने कहा है, “किसी चक्कर में न रहना, तारीख रख लें कब आना है। आप गुंडे तैयार कर लो, हम किसान तैयार कर लेंगे। एक दिन में ही काम निपटा देते हैं। मगर हम पहले वार नहीं करेंगे। हम पर वार हुआ तो जो होगा, वह अच्छा नहीं होगा।”

चढूनी ने कहा, “कभी भी समय रख लें और दो-दो हाथ कर लें। दूसरों के लड़के मरवाने की जरूरत नहीं है। एक तरफ आप लट्ठ उठाकर आ जाओ और दूसरी तरफ मैं आता हूं। अगर आपने मुझे हरा दिया मैं यूनियन छोड़ दूंगा और आपका गुलाम रहूंगा। आप हार गए तो मुख्यमंत्री का पद छोड़कर हमारी बातें मान लेना।”

आरोप है कि सत्तापक्ष के कई अन्य नेताओं ने भी भड़काऊ बयान दिए, जिसकी वजह से हिंसा फैली। लखीमपुर की घटना में आरोपी बने केंद्रीय गृहराज्य मंत्री अजय मिश्रा पर आरोप है कि एक सभा में उन्होंने हाल ही में किसानों को धमकी देते हुए कहा था कि “अगर मैं गाड़ी से उतर आता तो इन्हें भागने का भी समय नहीं मिलता। कृषि कानून का विरोध केवल 10-15 दिन कर रहे हैं। इसलिए सुधर जाओ, वर्ना हम सुधार देंगे। मुझे सिर्फ 2 मिनट लगेंगे और यहां लोग जानते हैं कि मैं किसी चुनौती से भागता नहीं हूं।”