सीनियर सिटीजंस को इनकम टैक्‍स रिटर्न में मिलती है इस तरह की सुविधाएं और राहत

वरिष्ठ नागरिकों और अत‍ि वरिष्ठ नागरिकों के लिए आयकर विभाग कुछ इनकम टैक्‍स बेनिफ‍िट और राहत प्रदान करता है। आइए आपको भी बताते हैं कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए इनकम टैक्‍स के संबंध में किस तरह की छूट और राहत दी गई है।

senior citizen सांकेतिक फोटो।

कमाई करने वाले लोगों को इनकम टैक्‍स भरना जरूरी है, अगर वो इनकम टैक्‍स स्‍लैब के अंतर्गत आते हैं। सरकार द्वारा टैक्स में कुछ छूट भी दी जाती है। वरिष्ठ नागरिकों और अत‍ि वरिष्ठ नागरिकों के लिए आयकर विभाग कुछ इनकम टैक्‍स बेनिफ‍िट और राहत प्रदान करता है। आइए आपको भी बताते हैं कि वरिष्ठ नागरिकों के लिए इनकम टैक्‍स के संबंध में किस तरह की छूट और राहत दी गई है।

आयकर कानून के तहत किस एज क्राइटेरिया में एक वरिष्ठ नागरिक और अति वरिष्ठ नागरिक आते हैं।

एज क्राइटेरिया को समझने से पहले, यह जानना बहुत जरूरी है कि आयकर कानून के तहत एक वरिष्ठ नागरिक/अति वरिष्ठ नागरिक को दिए जाने वाले कर लाभ केवल रेजिडेंट वरिष्ठ नागरिक और रेजिडेंट बहुत वरिष्ठ नागरिकों के लिए उपलब्ध हैं।

वरिष्ठ नागरिक के लिए क्राटेरिया : संबंधित वर्ष के दौरान किसी भी समय 60 वर्ष या उससे अधिक लेकिन 80 वर्ष से कम आयु का होना चाहिए।

अति वरिष्ठ नागरिक के लिए एज क्राइटेरिया : संबंधित वर्ष के दौरान किसी भी समय 80 वर्ष या उससे अधिक की आयु होनी चाहिए।

कर दरों के संबंध में एक वरिष्ठ नागरिक और बहुत वरिष्ठ नागरिक को क्या लाभ उपलब्ध हैं?

वरिष्ठ नागरिकों और बहुत वरिष्ठ नागरिकों को सामान्य करदाताओं की तुलना में अधिक छूट की सीमा प्रदान की जाती है। छूट की सीमा उस आय की मात्रा है जिस तक कोई व्यक्ति कर का भुगतान करने के लिए उत्तरदायी नहीं है।

वरिष्ठ नागरिक: वरिष्ठ नागरिक को गैर-वरिष्ठ नागरिकों की तुलना में अधिक छूट की सीमा दी जाती है। रेजिडेंट वरिष्ठ नागरिक के लिए उपलब्ध वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए छूट की सीमा 3,00,000 रुपए है। गैर-वरिष्ठ नागरिक के लिए छूट की सीमा 2,50,000 रुपए है। इस प्रकार, यह देखा जा सकता है कि सामान्य करदाताओं की तुलना में एक निवासी वरिष्ठ नागरिक को उच्च छूट सीमा के रूप में 50,000 रुपए का अतिरिक्त लाभ दिया जाता है।

अति वरिष्ठ नागरिक: एक अति वरिष्ठ नागरिक को अन्य की तुलना में अधिक छूट की सीमा दी जाती है। वित्तीय वर्ष 2020-21 के लिए रेजिडेंट अति वरिष्ठ नागरिक के लिए छूट की सीमा 5,00,000 रुपए है। यानी सामान्य करदाताओं की तुलना में एक रेजिडेंट अति वरिष्ठ नागरिक को उच्च छूट सीमा के रूप में 2,50,000 रुपए का अतिरिक्त लाभ उपलब्ध है।

क्या अति वरिष्ठ नागरिक को आयकर रिटर्न की ई-फाइलिंग से छूट दी गई है?
असेसमेंट ईयर 2019-20 के बाद से, अति वरिष्ठ नागरिक अपनी आय रिटर्न फॉर्म आईटीआर 1/4 में दाखिल कर सकता है, वह अपनी आय की रिटर्न पेपर मोड में दाखिल कर सकता है, यानी उसके लिए आईटीआर 1/4 (जैसा भी मामला हो) की ई फाइलिंग कर सकता है। ) अनिवार्य नहीं है। हालांकि, वह चाहें तो ई-फाइलिंग के लिए जा सकते हैं।

क्या रेजिडेंट वरिष्ठ नागरिक को एडवांस टैक्‍स के भुगतान से छूट दी गई है?
धारा 208 के अनुसार, प्रत्येक व्यक्ति जिसकी अनुमानित कर देयता वर्ष के लिए 10 हजार रुपए या उससे ज्‍यादा है, उसे “एडवांस टैक्‍स” के रूप में अपना टैक्‍स भुगतान करना होगा। हालांकि, धारा 207 रेजिडेंट सीनियर सिटीजन को एडवांस टैक्‍स के भुगतान से राहत देती है।

धारा 207 के अनुसार रेजिडेंट सीनियर सिटीजन (अर्थात, प्रासंगिक वित्तीय वर्ष के दौरान 60 वर्ष या उससे अधिक आयु का व्यक्ति) जिसकी व्यवसाय या पेशे से कोई आय नहीं है, एडवांस टैक्‍स का भुगतान करने से राहत मिलती है।

क्या वरिष्ठ नागरिक को आयकर रिटर्न दाखिल करने से छूट मिलती है?
नए प्रावधान के तहत कर काटा जाना आवश्यक है यदि प्राप्तकर्ता एक निवासी व्यक्ति है जिसकी आयु वर्ष के दौरान किसी भी समय 75 वर्ष या उससे अधिक है और निम्नलिखित शर्तें पूरी होती हैं:

ए) कटौती करने वाले की कुल आय में केवल पेंशन से होने वाली आय और कटौतीकर्ता (ऐसे बैंक) के साथ बनाए गए किसी भी खाते से प्राप्त या प्राप्य ब्याज शामिल है।

b) डिडक्टी ने डिडक्टर को एक डिक्लेरेशन दिया है जिसमें निर्धारित विवरण हैं।

यदि उपरोक्त शर्तें पूरी होती हैं, तो कटौतीकर्ता अध्याय VI-A के तहत स्वीकार्य कटौती और धारा 87A के तहत छूट को प्रभावी करने के बाद कटौतीकर्ता की आय की गणना करेगा। ऐसी आय पर लागू दरों के आधार पर टैक्‍स काटा जाना आवश्यक है।

यदि ऐसे वरिष्ठ नागरिक की आय से टैक्‍स काटा जाता है, तो वह पिछले वर्ष की आय की विवरणी प्रस्तुत करने के लिए उत्तरदायी नहीं होगा जिसमें कर काटा गया है।