सुलह के सारे रास्ते बंद होने पर ही करें कोर्ट का रुख, महाभारत और भगवान श्रीकृष्ण का जिक्र कर CJI ने दी ये नसीहत

सीजेआई ने कहा कि चालीस सालों तक कानूनी पेशे में विभिन्न पदों पर रहने के बाद मेरी सलाह है कि आपको अंतिम उपाय के रूप में ही अदालतों में जाना चाहिए।

CJI Ramana, supreme court सुलह के सारे रास्ते बंद होने पर ही करें कोर्ट का रुख- सीजेआई (एक्सप्रेस फाइल फोटो)

चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एनवी रमना ने शनिवार को एक कार्यक्रम में कहा कि जब सुलह के रास्ते बंद हो जाएं, तभी लोग कोर्ट का रुख करें। उन्होंने कहा कि मध्यस्थता और सुलह जैसे वैकल्पिक विवाद समाधान (एडीआर) के तरीकों के असफल रहने के बाद ही अदालतों का दरवाजा खटखटय जाना चाहिए।

सीजेआई एनवी रमना ने ये बातें हैदराबाद के इंटरनेशनल आर्बिट्रेशन एंड मध्यस्थता केंद्र के कर्टन रेजर एंड स्टेकहोल्डर्स कॉन्क्लेव को संबोधित करते हुए कही। अपने इस संबोधन के दौरान सीजेआई ने महाभारत और भगवान श्री कृष्ण का भी जिक्र किया। सीजेआई ने कहा कि महाभारत में भी भगवान कृष्ण ने पांडवों और कौरवों के बीच मध्यस्थता के जरिए विवाद खत्म करने का प्रयास किया था, लेकिन वो सफल नहीं रहा। उन्होंने आगे कहा- “यह याद रखना जरूरी है कि मध्यस्थता की विफलता के विनाशकारी परिणाम हुए हैं।”

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने आगे कहा कि चालीस सालों तक कानूनी पेशे में विभिन्न पदों पर रहने के बाद मेरी सलाह है कि आपको अंतिम उपाय के रूप में ही अदालतों में जाने का विकल्प रखना चाहिए। एडीआर (वैकल्पिक विवाद समाधान) का विकल्प तलाशने के बाद ही इस अंतिम उपाय का उपयोग करना चाहिए।

सीजेआई ने कहा- मेरा सही दृष्टिकोण से तात्पर्य है कि हमें अपने अहंकार, भावनाओं, अधीरता को छोड़कर व्यावहारिकता को अपनाना चाहिए। लेकिन, एक बार जब ये विवाद अदालत में आ जाते हैं, तो अभ्यास और प्रक्रिया में बहुत कुछ खो जाता है।”

उन्होंने बताया कि देश में कुछ मध्यस्थता केंद्रों की मौजूदगी के बावजूद, अंतरराष्ट्रीय मध्यस्थता समझौते वाले मामलों के लिए भारतीय पक्ष अक्सर देश के बाहर के मध्यस्थता केंद्र का विकल्प चुनते हैं, जिससे भारी खर्च होता है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि हैदराबाद केंद्र इस प्रवृत्ति को बदल देगा।

सीजेआई ने कहा कि केंद्र के पास “सर्वश्रेष्ठ बुनियादी ढांचा” है और अंतरराष्ट्रीय स्तर के विशेषज्ञ इसके मध्यस्थ पैनल में हैं। उन्होंने आगे कहा कि हैदराबाद केंद्र भी जल्द ही दुनिया भर में प्रतिष्ठित सिंगापुर अंतर्राष्ट्रीय मध्यस्थता केंद्र जैसे मध्यस्थ संस्थानों के बराबर खड़ा हो जाएगा।