हम जिन्ना को सबसे बड़ा गुनाहगार मानते हैं, सपा नेता इमरान मसूद बोले- श्यामा प्रसाद ने दी थी दो राष्ट्रों की थ्योरी, वो लगाएंगे उनकी मूर्ति

इमरान मसूद ने कहा कि 12 दिसंबर 1941 को बंगाल प्रोविंस के अंदर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने मुस्लिम लीग के साथ मिलकर सरकार बनाई और उस सरकार में वित्त मंत्री व उपमुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने टू नेशन थ्योरी का समर्थन किया।

समाजवादी पार्टी के नेता इमरान मसूद ने कहा कि अखिलेश यादव जिन्ना की मूर्ति नहीं लगाएंगे बल्कि मूर्ति वो लगाएंगे जिन्होंने जिन्ना के साथ मिलकर सरकार बनाई। (फोटो: एएनआई)

उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनावों में एक बार फिर से जिन्ना की एंट्री हो चुकी है। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने एक इंटरव्यू में कहा कि चीन हमारा असली दुश्मन है और पाकिस्तान राजनीतिक दुश्मन है। लेकिन बीजेपी वोट पॉलिटिक्स के लिए सिर्फ पाकिस्तान को निशाना बनाती है। उनके इसी बयान पर पलटवार करते हुए भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कह दिया कि जिन्ना से जो करे प्यार, वो पाकिस्तान से कैसे करे इनकार। वहीं भाजपा के यूपी प्रदेश अध्‍यक्ष स्‍वतंत्र देव सिंह ने तंज कसते हुए यहां तक कह दिया कि क्या सत्ता में आकर अखिलेश यादव जिन्ना की मूर्तियां लगाएंगे?  

भाजपा नेताओं के द्वारा दिए गए इन बयानों के बाद अब समाजवादी पार्टी भी हमलावर हो गई है। समाजवादी पार्टी के नेता इमरान मसूद ने पलटवार करते हुए कहा कि अखिलेश यादव जिन्ना की मूर्ति नहीं लगाएंगे। जिन्ना की मूर्ति वो लगाएंगे जिन्होंने जिन्ना के साथ मिलकर सरकार बनाई। अखिलेश यादव और उनकी विचारधारा के लोगों ने जिन्ना के साथ मिलकर सरकार नहीं बनाई थी। 

आगे इमरान मसूद ने कहा कि 12 दिसंबर 1941 को बंगाल प्रोविंस के अंदर श्यामा प्रसाद मुखर्जी ने मुस्लिम लीग के साथ मिलकर सरकार बनाई और उस सरकार में वित्त मंत्री व उपमुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने टू नेशन थ्योरी का समर्थन किया। सरहदी सूबे के अंदर हिंदू महासभा और मुस्लिम लीग ने मिलकर सरकार बनाई। सिंध में इन लोगों ने मिलकर 1936 में एक प्रस्ताव पेश किया जिसे बाद में लाहौर में पास किया गया। इस प्रस्ताव में कहा गया कि देश का विभाजन होना चाहिए। ये विभाजनकारी नीति का समर्थन करने वाले जिन्ना की मूर्ति लगाएंगे। हम जिन्ना को सबसे बड़ा गुनाहगार मानते हैं जिन्होंने देश का विभाजन किया।     

सोमवार को भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने अखिलेश यादव के पाकिस्तान वाले बयान पर जमकर निशाना साधा और कहा कि एक तरफ जहां पूरा देश उत्तर प्रदेश का स्थापना दिवस मना रहा है। वहीं अखिलेश यादव ने एक साक्षात्कार में कहा कि पाकिस्तान हिंदुस्तान का असली दुश्मन नहीं है। उनका कहना कि वह पाकिस्तान को भारत का असली दुश्मन नहीं मानते और बीजेपी केवल वोट की राजनीति की वजह से पाकिस्तान को दुश्मन मानती है। यह दुखद, चिंताजनक और शर्मनाक है। 

इसके अलावा बीजेपी प्रवक्ता ने सपा उम्मीदवारों की सूची पर सवाल उठाते कहा कि शुक्र है कि याकूब मेनन को फांसी दे दी गई है नहीं तो अखिलेश उन्हें भी देशभक्त बताकर दंगाई नाहिद हसन की तरह ही अपना प्रत्याशी बना देते। अखिलेश यादव ने आतंकवादियों को कोर्ट से छुड़वाने की अपील की थी। शुक्र है कि न्याय प्रक्रिया ने उस पर रोक लगाई।