हरिद्वार के पतंजलि गुरुकुल में साध्वी ने बिल्डिंग से कूदकर दी जान, सुसाइड नोट में धार्मिक बातों का जिक्र

साध्वी की मौत के बाद सात पन्नों का एक सुसाइड नोट मिला है। जिसमें कई सारी धार्मिक बातें लिखी गई है। इसके अलावा देवपूर्णा दीदी का जिक्र करते हुए स्वामी, आचार्य, गुरुदेव, माता पिता व भाई को प्रणाम किया है।

suicide तस्वीर का इस्तेमाल सिर्फ प्रस्तुतिकरण के लिए किया गया है। (फोटोः pixabay)

हरिद्वार के बहादराबाद थाना क्षेत्र स्थित पतंजलि योगपीठ के कन्या गुरुकुल में अध्ययन और अध्यापन करने वाली एक साध्वी ने पांचवीं मंजिल से कूदकर आत्महत्या कर ली। इस खबर से गुरुकुल में हड़कंप मच गया। इस मामले में ट्रेनी डीएसपी परवेज अली ने जानकारी दी कि, घटना के बाद महिला को तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया। इस मामले में एक सुसाइड नोट भी बरामद किया गया है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार साध्वी मध्य प्रदेश की रहने वाली हैं और उसकी पहचान विद्या (24) के रूप में हुई है। परवेज अली ने मीडिया को हताया कि, पिछले छह साल से साध्वी वैदिक कन्या गुरुकुलम में रह रही थी। वहीं सुसाइड नोट का हवाला देते अली ने धार्मिक कारणों को आत्महत्या का संभावित कारण बताया है। बताया गया है कि सुसाइड नोट में धार्मिक बातें लिखी गई है।

सात पन्नों के इस सुसाइड नोट में किसी व्यक्ति का जिक्र कर काफी सारी बातें लिखी गई हैं। हालांकि उस शख्स का नाम सुसाइड नोट में नहीं लिखा गया है। सुसाइड नोट में साध्वी ने लिखा है कि अपने मन की बात किसे कहूं। मैंने कोई गलत काम नहीं किया। खुद को सांसारिक जीवन के लायक ना मानते हुए साध्वी ने संन्यास में ही अपना जीवन समाप्त करने इच्छा जताते हुए लिखा है कि योग में ही मुक्ति लेना चाहती हूं।

सुसाइड नोट में साध्वी ने देवपूर्णा दीदी का भी जिक्र करते हुए स्वामी, आचार्य, गुरुदेव, माता पिता व भाई को प्रणाम किया है। वहीं पतंजलि योगपीठ के महामंत्री ने इस घटना को लेकर कहा कि, उन्हें इस बारे में कुछ नहीं कहना है, पुलिस जांच कर रही है।

साध्वी को लेकर जानकारी मिली है कि वह मध्य प्रदेश के मंदसौर की तहसील हलौरा की रहने वाली थी और 2018 से ही पतंजलि में रह रही थीं। साध्वी योग की पढ़ाई करने के साथ यहां अध्यापन का भी कार्य कर रही थीं। रविवार सुबह 11 बजे वैदिक कन्या गुरुकुल के हॉस्टल में उस वक्त हड़कंप मच गया, जब साध्वी ने पांचवीं मंजिल से कूदकर अपनी जान दे दी। इसके बाद वहां के कर्मचारियों ने साध्वी को भूमानंद अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने के बाद मामले में आगे की जांच की जा रही है।