हर्षद मेहता का वो साथी जो घोटाले में था साथ, अब ड्रग्स बेचते पकड़ा गया

स्टॉक घोटाले का मास्टरमाइंड हर्षद मेहता के एक सहयोगी निरंजन शाह को एटीएस ने ड्रग्स केस में गिफ्तार किया है। वो कई महीनों से फरार था।

Harshad-Mehta friend niranjan shah स्टॉक ब्रोकर हर्षद मेहता। (एक्सप्रेस आर्काइव फोटो)

हर्षद मेहता का एक करीबी सहयोगी अब ड्रग्स के मामले में दिल्ली में गिरफ्तार हुआ है। आतंकवाद निरोधी दस्ता मुम्बई (ATS) ने निरंजन शाह को नई दिल्ली के मुनिरका गांव से ड्रग्स के एक मामले में गिरफ्तार किया है।

निरंजन शाह को पहले नशीली दवाओं से संबंधित अन्य मामलों में भी गिरफ्तार किया गया था। शाह पर करोड़ों रुपये के स्टॉक घोटाले में भी शामिल होने का आरोप था, जिसका मास्टरमाइंड हर्षद मेहता था।

अधिकारियों ने कहा कि वे मार्च से शाह की तलाश कर रहे हैं। एक सोहेल यूसुफ मेमन नाम का व्यक्ति 5.65 किलोग्राम मेफेड्रोन (एमडी) के साथ गिरफ्तार किया गया था। इसने निरंजन शाह को अपना साथी बताया था। एटीएस अधिकारियों ने कहा कि उसके पास से जब्त प्रतिबंधित मादक पदार्थ की कीमत अंतरराष्ट्रीय बाजार में 2.53 करोड़ रुपये था।

अधिकारियों ने बताया कि मेमन को गिरफ्तार कर लिया गया और पूछताछ के दौरान उसने खुलासा किया कि उसने शाह से मादक पदार्थ खरीदा था। नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सबस्टेंस (एनडीपीएस) अधिनियम, 1985 की धारा 8 (सी), 22 और 29 के तहत एक मामला दर्ज किया गया था और शाह इस मामले में वांछित था।

अधिकारी ने कहा- “जब हमने उसका इतिहास खंगाला तो पता चला कि शाह एक जाना-माना मादक पदार्थ तस्कर है। शाह एंटी-नारकोटिक्स सेल मुंबई, नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) नई दिल्ली और राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) के अलावा मुंबई और दिल्ली के विभिन्न पुलिस स्टेशनों के रिकॉर्ड में है। उन्हें कई बार विभिन्न एजेंसियों द्वारा गिरफ्तार भी किया गया है”।

अधिकारी ने कहा कि आरोपी मुंबई से भाग गया था और लगातार अपना स्थान बदलकर गिरफ्तारी से बच रहा था। वह शुरू में मध्य प्रदेश गया था और वहीं छिपा था। वह राजस्थान, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तेलंगाना और कर्नाटक में भी रहा था। कई मौकों पर, हम उसकी लोकेशन का पता लगाने में कामयाब रहे, लेकिन जब तक हम पहुंचे, वह पहले ही भाग चुका होता था।

एटीएस को हाल ही में दिल्ली के मुनिरका गांव में उसकी लोकेशन मिली थी। इसके बाद एटीएस अधिकारियों ने जाल बिछाकर उसे पकड़ लिया। शाह को गिरफ्तार करके मुंबई लाया गया। जिसके बाद उसे अदालत में पेश किया गया, जहां से उसे 25 अगस्त तक एटीएस की हिरासत में भेज दिया गया है।