हार्दिक पंड्या भारतीय टेस्ट टीम में खेलने के हकदार नहीं, वनडे और टी20 के भी लायक नहीं- पूर्व चयनकर्ता ने दिया बड़ा बयान

हार्दिक पंड्या को इंग्लैंड दौरे पर जाने वाली टीम इंडिया में शामिल नहीं किया गया है। चयनकर्ताओं के इस फैसले को लेकर जमकर विवाद हुआ। कुछ एक्सपर्ट का यह मानना है कि हार्दिक भारत के नंबर-1 ऑलराउंडर हैं तो उन्हें टीम में होना चाहिए था, तो कुछ इसके खिलाफ हैं।

Hardik Pandya

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या को इंग्लैंड दौरे पर जाने वाली टीम इंडिया में शामिल नहीं किया गया है। चयनकर्ताओं के इस फैसले को लेकर जमकर विवाद हुआ। कुछ एक्सपर्ट का यह मानना है कि हार्दिक भारत के नंबर-1 ऑलराउंडर हैं तो उन्हें टीम में होना चाहिए था। वहीं, कुछ का कहना है कि वे गेंदबाजी नहीं कर रहे हैं। ऐसे में वो टीम में शामिल होने के योग्य नहीं हैं। अब भारत के पूर्व चयनकर्ता सरनदीप सिंह ने हार्दिक को नजरअंदाज करने के फैसले का समर्थन किया है।

सरनदीप सिंह ने कहा कि यह हरफनमौला खिलाड़ी अगर गेंदबाजी में योगदान नहीं देता है तो वह छोटे प्रारूपों के टीम में भी जगह का हकदार नहीं है। हार्दिक की 2019 में पीठ की सर्जरी हुई थी। इसके बाद से वह नियमित रूप से गेंदबाजी नहीं कर रहे हैं और टीम को उनके हरफनमौला कौशल का फायदा नहीं मिल रहा है। इसी वजह से उन्हें इंग्लैंड दौरे पर जाने वाली भारतीय टेस्ट टीम में जगह नहीं मिली है। सरनदीप का कार्यकाल इस साल ऑस्ट्रेलिया दौरे के साथ समाप्त हुआ था। उन्होंने इंग्लैंड दौरे के लिए प्रतिभाशाली पृथ्वी शॉ को टीम में जगह नहीं मिलने पर हैरानी जताई।

भारतीय टीम के पूर्व स्पिनर सरनदीप ने कहा, ‘‘हार्दिक को टेस्ट के लिए नजरअंदाज करने का चयनकर्ताओं का फैसला समझ में आता है। वह अपनी सर्जरी के बाद नियमित रूप से गेंदबाजी नहीं कर पाए हैं। मुझे लगता है कि उन्हें छोटे प्रारूपों में भी अंतिम एकादश का हिस्सा बनने के लिए वनडे में 10 और टी20 में चार ओवर करने होंगे। वह सिर्फ बल्लेबाज के रूप में नहीं खेल सकते। अगर हार्दिक गेंदबाजी नहीं करता है, तो यह टीम के संतुलन पर काफी असर डालता है।’’

सरनदीप ने कहा, ‘‘आपको हार्दिक की वजह से एक अतिरिक्त गेंदबाज को टीम में रखना होगा जिससे सूर्यकुमार यादव जैसे खिलाड़ी को बाहर करना होगा। हम इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एकदिवसीय सीरीज में इसका असर देख चुके है। हम गेंदबाजी में सिर्फ पांच विकल्पों के साथ नहीं उतर सकते। अब टीम के पास अब वॉशिंगटन सुंदर, अक्षर पटेल, रविंद्र जडेजा के रूप में अन्य हरफनमौला खिलाड़ी हैं। शार्दुल ठाकुर भी एक हरफनमौला बन सकते हैं। उन्होंने यह दिखाया है। अगर हार्दिक गेंदबाजी नहीं कर सकते तो ये सभी इस काम को कर सकते हैं।’’

इंग्लैंड दौरे के लिए शॉ के नहीं चुने जाने पर उन्होंने कहा कि उनकी तरह के काबिल बल्लेबाज को नजरअंदाज करना जल्दबाजी होगी। सरनदीप ने कहा, ‘‘शॉ के पास वह क्षमता है जो भारतीय टीम के लिए वीरेन्द्र सहवाग करते थे। आप उन्हें उनके करियर में इतनी जल्दी नजरअंदाज नहीं कर सकते। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया दौरे के बाद टीम से बाहर होने के बाद घरेलू क्रिकेट में काफी रन बनाए। उन्होंने अपनी तकनीकी खामियों को भी ठीक किया है और इसे इंडियन प्रीमियर लीग में भी देखा जा सकता था।’’

उन्होंने कहा, ‘‘आपको शॉ और शुभमन गिल के जैसे प्रतिभाशाली खिलाड़ियों का समर्थन करना होगा।’’ सरनदीप ने इंग्लैंड दौरे के लिए चार स्टैंडबाई खिलाड़ियों के चयन पर भी सवाल उठाया। स्टैंडबाई खिलाड़ी के तौर पर अभिमन्यु ईश्वरन, अवेश खान, प्रसीद कृष्णा और अर्जन नागवासवाला भारतीय टीम के साथ जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘प्रियांक पांचाल ने भारत-ए के लिए न्यूजीलैंड में शतक लगाया। आपने उसका चयन नहीं किया। आपने देवदत्त पडिक्कल को नहीं चुना। बाएं हाथ के तेज गेंदबाज के लिए जयदेव उनादकट को क्यों नजरअंदाज किया जा रहा है यह समझ से परे है। उसने पिछले रणजी में रिकार्ड 67 विकेट लिए हैं।’’