1 अक्टूबर से ऑटो डेबिट पेमेंट सिस्टम हो रहा लागू, बैंक अकाउंट में मोबाइल नंबर करवा लें अपडेट

Auto Debit Payment System: नियमों के मुताबिक पेमेंट ड्यू डेट से पांच दिन पहले ग्राहक को एसएमएस के जरिए भुगतान की जानकारी दी जाएगी। क्रेडिट या डेबिट कार्ड, मोबाइल एप्लीकेशन या इंटरनेट बैंकिंग के जरिए ऑटो डेबिट करने से पहले ग्राहकों से पूछा जाएगा कि वे भुगतान करना चाहते हैं या नहीं।

(फाइल फोटो) सोर्स: PTI

Auto Debit Payment System: 1 अक्टूबर से ऑटो डेबिट पेमेंट सिस्टम लागू होने जा रहा है। ऐसे में बैंक खाताधारक अपने अकाउंट में मोबाइल नंबर जरूर अपडेट करवा लें। ऐसा इसलिए क्योंकि आपके मोबाइल नंबर पर ही ऑटो डेबिट से जुड़ी नोटिफिकेशन एसएमएस के जरिए भेजी जाएगी।

ऑटो डेबिट पेमेंट सिस्टम लागू होने के बाद आपने बिजली, पानी का बिल, गैस का बिल, लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (एलआईसी) या अन्य किसी खर्च को ऑटो डेबिट मोड में डाला है तो एक तय डेट पर खाते से पैसा काट लिया जाएगा। अगर आपको अपने मोबाइल एप्लीकेशन या इंटरनेट बैंकिंग में किसी खर्च को ऑटो डेबिट मोड डालना होगा।

अगले तीन से चार महीनों तक ये बैंक ग्राहकों को नहीं इश्यू कर पाएगा क्रेडिट कार्ड, जानें वजह

नियमों के मुताबिक पेमेंट ड्यू डेट से पांच दिन पहले ग्राहक को एसएमएस के जरिए भुगतान की जानकारी दी जाएगी। क्रेडिट या डेबिट कार्ड, मोबाइल एप्लीकेशन या इंटरनेट बैंकिंग के जरिए ऑटो डेबिट करने से पहले ग्राहकों से पूछा जाएगा कि वे भुगतान करना चाहते हैं या नहीं।

दरअसल बिजली, पानी का बिल, गैस का बिल, लाइफ इंश्योरेंस कॉर्पोरेशन (एलआईसी) अन्य किसी खर्च को मोबाइल वॉलेट कंपनियां या बैंक ग्राहक से एकबार अनुमति लेने के बाद हर महीने बिना किसी जानकारी दिए ग्राहक के खाते से काट लेते हैं।

इससे फ्रॉड के मामले में भी सामने आते हैं। इस समस्या को खत्म करने के लिए ही रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यह बदलाव कर रही है। इसलिए 1 अक्टूबर से नोटिफिकेशन पर ग्राहक की मंजूरी और 5000 से ज्यादा के पेमेंट पर ओटीपी जरूरी होने जा रहा है।

इससे जुड़े फ्रेमवर्क को पूरी तरह अपनाने के लिए बैंकों और अन्य कंपनियों को समय दिया गया था जो कि सितंबर तक है। बैंकों को सख्त चेतावनी दी गई है कि वह इस नए सिस्टम में खुद को कनवर्ट कर लें।

आरबीआई ने कहा था कि अगर कोई इसकी अनदेखी करता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई होगी। आपको बता दें कि यह सिस्टम सिर्फ डेबिट और क्रेडिट कार्ड्स के अलावा वॉलेट और यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस (UPI) ट्रांजैक्शंस पर भी लागू होने जा रहा है।