130 देशों के पास नहीं है कोरोना की वैक्सीन, चिंता जताते हुए UN ने कहा- बहुत नाइंसाफी है

कोविड टीकों की पहुंच बेहतर बनाने के लिए ब्रिटेन की ओर से आयोजित वर्चुअल काउंसिल मीटिंग में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने सबको टीका उपलब्ध कराने का आह्वान किया।

covid-19, UNO

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कोविड टीकों के “बेतहाशा असमान और अनुचित” वितरण की तीखी आलोचना करते हुए कहा है कि सिर्फ 10 देशों ने 75 फीसदी टीकों का उपयोग किया। उन्होंने चिंता जताते हुए कहा कि दुनिया के सभी देशों के नागरिकों टीकों की पहुंच होनी चाहिए। कहा कि हर नागरिक को टीका मिल सके, इसके लिए वैश्विक प्रयास की जरूरत है। संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक उच्च स्तरीय बैठक में बताया कि 130 देशों को अभी तक वैक्सीन की एक भी खुराक नहीं मिली है। कहा, “इस महत्वपूर्ण क्षण में वैश्विक समुदाय के सामने सबसे बड़ा नैतिक सवाल टीकों की समान वितरण है।”

उन्होंने टीकों के समान वितरण सुनिश्चित करने के लिए तत्काल वैश्विक टीकाकरण योजना बनाने का आह्वान किया। कहा कि इसके लिए वैज्ञानिकों, वैक्सीन उत्पादकों और जो धन उपलब्ध करा सकने वाले शक्ति संपन्न देशों को एकजुट होकर आगे आना होगा।

उन्होंने ग्रुप-20 के दुनिया की प्रमुख आर्थिक शक्तियों का आह्वान किया कि वे योजना को बनाने और इसके कार्यान्वयन और वित्तपोषण को के लिए आपातकालीन कार्यबल की स्थापना में लग जाएं। उन्होंने कहा कि कार्यबल के पास “दवा कंपनियों और प्रमुख उद्योग और सामग्री को जुटाने की क्षमता” होनी चाहिए।

शुक्रवार को सात प्रमुख औद्योगिक देशों – संयुक्त राज्य अमेरिका, जर्मनी, जापान, ब्रिटेन, फ्रांस, कनाडा और इटली- के समूह की बैठक में गुटेरेस ने कहा कि ये देश “आवश्यक वित्तीय संसाधनों को जुटाने के लिए गति पैदा कर सकते है।”

कोविड टीकों की पहुंच बेहतर बनाने के लिए ब्रिटेन की ओर से आयोजित वर्चुअल काउंसिल मीटिंग में तेरह मंत्रियों ने अपनी बातें रखीं। जॉन्स हॉपकिन्स यूनिवर्सिटी ट्रैकर के अनुसार कोरोनो वायरस 109 मिलियन से अधिक लोगों को संक्रमित कर चुका है। कम से कम 2.4 मिलियन लोगों की मौत हो चुकी है। टीके बनाने वाली कंपनियां उत्पादन में तेजी लाने के लिए लगातार कोशिश कर रही हैं। कई देशों के छूट जाने की शिकायत होती है। बड़े देश भी टीकों की कमी और घरेलू शिकायतों का सामना कर रहे हैं।