16 राज्यों की कुल जीडीपी से ज्यादा है देश के 7 अरबपतियों की संपत्ति, अकेले मुकेश अंबानी 10 राज्यों पर भारी

कोरोना महामारी के बावजूद अरबपतियों की संपत्ति में लगातार इजाफा हो रहा है। भारत समेत दुनियाभर के अरबपतियों की संपत्ति में बढ़ोतरी हो रही है। अब ब्लूमबर्ग बिलेनियर्स इंडेक्स में टॉप-100 अमीरों में भारतीय अरबपतियों की संख्या बढ़कर 7 हो गई है। इन सातों भारतीय अरबपतियों की कुल नेटवर्थ 277.3 अरब डॉलर करीब 20.6 लाख करोड़ रुपए है।

Mukesh Ambani, Azim Premji रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी देश के सबसे अमीर व्यक्ति हैं।

बीते करीब डेढ़ साल से पूरी दुनिया कोरोना महामारी का सामना कर रही है। इस दौरान आम आदमी की कमाई घटी है लेकिन दुनियाभर के अरबपतियों की दौलत खूब बढ़ी है। भारत के अरबपति भी इससे अछूते नहीं रहे हैं। भारतीय अरबपतियों की संपत्ति में इजाफे का इससे पता चलता है कि डीमार्ट के संस्थापक राधाकिशन दमानी भी हाल ही में दुनिया के 100 अमीरों की लिस्ट में शामिल हो गए हैं।

ब्लूमबर्ग बिलेनियर्स इंडेक्स के मुताबिक, राधाकिशन दमानी 19.3 अरब डॉलर करीब 1.43 लाख करोड़ रुपए की नेटवर्थ के साथ 97वें स्थान पर पहुंच गए हैं। दुनिया के टॉप-100 अमीरों की लिस्ट में अब भारतीयों की संख्या बढ़कर 7 हो गई है। इसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुकेश अंबानी, अडानी ग्रुप के गौतम अडानी, विप्रो के अजीम प्रेमजी, शापूरजी-पलोनजी ग्रुप के पलोनजी मिस्त्री, एचसीएल के फाउंडर शिव नाडर, आर्सेलर मित्तल के लक्ष्मी मित्तल और डीमार्ट के फाउंडर राधाकिशन दमानी शामिल हैं। यदि इन अरबपतियों की कुल संपत्ति को जोड़ लिया जाए तो यह देश के 16 राज्यों की कुल जीडीपी से ज्यादा होती है। यही नहीं अकेले मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति देश के 10 राज्यों से ज्यादा है।

टॉप-7 अरबपतियों की कुल संपत्ति: ब्लूमबर्ग बिलेनियर्स इंडेक्स के मुताबिक, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी की कुल नेटवर्थ 82.7 अरब डॉलर करीब 6.15 लाख करोड़ रुपए है। अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी की कुल संपत्ति 55.8 अरब डॉलर करीब 4.15 लाख करोड़ रुपए है। अजीम प्रेमजी की कुल संपत्ति 36.9 अरब डॉलर करीब 2.74 लाख करोड़ रुपए है। पलोनजी मिस्त्री की कुल नेटवर्थ 31.7 अरब डॉलर करीब 2.35 लाख करोड़ रुपए है। शिव नाडर की कुल संपत्ति 28.4 अरब डॉलर करीब 2.11 लाख करोड़ रुपए है। लक्ष्मी मित्तल की कुल नेटवर्थ 22.5 अरब डॉलर करीब 1.67 लाख करोड़ रुपए है। राधाकिशन दमानी की कुल संपत्ति 19.3 अरब डॉलर करीब 1.43 लाख करोड़ रुपए है। यदि इन सभी की कुल नेटवर्थ को जोड़ दिया जाए तो यह 277.3 अरब डॉलर करीब 20.6 लाख करोड़ रुपए होती है।

इन 16 राज्यों की कुल जीडीपी से ज्यादा है 7 अरबपतियों की संपत्ति: यदि इन सातों अरबपतियों की कुल संपत्ति की तुलना राज्यों की जीडीपी से की जाए तो यह देश के 16 राज्यों की कुल जीडीपी से ज्यादा है। इन राज्यों में अंडमान निकोबार (1.2 अरब डॉलर), मिजोरम (3.7 अरब डॉलर), अरुणाचल प्रदेश (3.8 अरब डॉलर), मणिपुर (4.5 अरब डॉलर), नगालैंड (4.5 अरब डॉलर), सिक्किम (4.6 अरब डॉलर), मेघालय (4.9 अरब डॉलर), पुद्दूचेरी (5.3 अरब डॉलर), चंडीगढ़ (5.9 अरब डॉलर), त्रिपुरा (8.4 अरब डॉलर), हिमाचल प्रदेश (22 अरब डॉलर), जम्मू और कश्मीर (25 अरब डॉलर), उत्तराखंड (35 अरब डॉलर), झारखंड (46 अरब डॉलर), छत्तीसगढ़ (49 अरब डॉलर) और असम (52 अरब डॉलर) शामिल हैं। इन सभी राज्यों की कुल जीडीपी 275.8 अरब डॉलर करीब 20.4 लाख करोड़ रुपए है। राज्यों की जीडीपी का आंकड़ा वित्त वर्ष 2018-19, 2019-20 और 2020-21 का है। यह आंकड़ा मिनिस्ट्री ऑफ स्टेटिस्टिक्स और राज्यों के बजट से लिया गया है।

मुकेश अंबानी देश के सबसे अमीर व्यक्ति: रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन देश और एशिया के सबसे अमीर व्यक्ति हैं। ब्लूमबर्ग बिलेनियर्स इंडेक्स में मुकेश अंबानी लंबे समय से 12वें स्थान पर काबिज हैं। यदि मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति की तुलना राज्यों की जीडीपी से की जाए तो वह अकेले 10 राज्यों की कुल जीडीपी पर भारी पड़ते हैं। ब्लूमबर्ग इंडेक्स के मुताबिक, मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति 82.7 अरब डॉलर करीब 6.15 लाख करोड़ रुपए है। जबकि देश के 10 राज्यों अंडमान निकोबार, मिजोरम, अरुणाचल प्रदेश, मणिपुर, नगालैंड, सिक्किम, मेघालय, त्रिपुरा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू और कश्मीर की कुल जीडीपी 82.6 अरब डॉलर करीब 6.14 लाख करोड़ रुपए है।

क्या होती है जीडीपी?: जीडीपी को ग्रॉस डॉमेस्टिक प्रोडक्ट या सकल घरेलू उत्पाद कहा जाता है। किसी देश या राज्यों में पैदा होने वाले सभी सामानों और सेवाओं की कुल वैल्यू को जीडीपी कहा जाता है। अर्थशास्त्रियों के मुताबिक, जीडीपी किसी छात्र की मार्कशीट की तरह होती है। जिस तरह मार्कशीट से छात्र के सालभर के प्रदर्शन का पता चलता है, उसी प्रकार जीडीपी के आंकड़ों से उस देश या राज्य की आर्थिक गतिविधियों के बारे में जानकारी मिलती है।