5 फुट 2 इंच की ‘डायनामाइट’ को रोकने के लिए PM-HM समेत पूरे देश से लाए जा रहे लोग- ममता का जिक्र कर BJP पर पैनलिस्ट का कटाक्ष

मनोजीत मंडल ने कहा कि साड़ी और चप्पल पहनने वाली एक पांच फुट दो इंच की डायनामाइट को रोकने के लिए पीएम और गृहमंत्री समेत पूरे भारत से लोगों का लाना पड़ रहा है। यही बीजेपी की सबसे बड़ी पीड़ा है।

Trinamool Congress, TMC, Mamata Banerjee

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान हो चुका है। पिछले कुछ वर्षों में बंगाल में उभार पाने वाली भारतीय जनता पार्टी ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस को सत्ता से बेदखल करने के लिए एड़ी चोटी एक की हुई है। प्रधानमंत्री मोदी और अमित शाह के अलावा भाजपा के कई कद्दावर नेता बंगाल के लगातार दौरे कर रहे हैं। इसी को लेकर एक टीवी डिबेट में एक पैनलिस्ट ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि 5 फुट 2 इंच की ‘डायनामाइट’ को रोकने के लिए PM-HM समेत पूरे देश से लोग बंगाल लाए जा रहे हैं।

दरअसल न्यूज 18 इंडिया पर आयोजित एक टीवी डिबेट शो में चर्चा के दौरान राजनीतिक विश्लेषक मनोजीत मंडल ने कहा कि बीजेपी के लोग ममता दीदी से डर गए हैं। ममता दीदी ने सिर्फ स्कूटी चलाने की कोशिश की. ये तो सिर्फ कनेक्ट करने का एक तरीका था। पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के अलावा देशभर से भाजपा नेताओं को बंगाल लाया जा रहा है। आगे मनोजीत मंडल ने कहा कि साड़ी और चप्पल पहनने वाली एक पांच फुट दो इंच की डायनामाइट को रोकने के लिए पीएम और गृहमंत्री समेत पूरे भारत से लोगों का लाना पड़ रहा है। यही बीजेपी की सबसे बड़ी पीड़ा है

आगे मनोजीत मंडल ने कहा कि भाजपा के लोगों को पुरे देश से बाराती मंगाना पड़ रहा है लेकिन इसके बावजूद उन्हें कन्या नहीं मिलेगी। इसी डिबेट शो में मौजूद भाजपा नेता शिशिर बाजोरिया ने ममता बनर्जी के इलेक्ट्रिक स्कूटी चलाने पर भी सवाल उठाये। शिशिर बाजोरिया ने कहा कि स्कूटी चलाते वक्त ममता बनर्जी यह भूल गयीं कि पश्चिम बंगाल में बिजली के दाम सबसे ज्यादा हैं।  इसके अलावा शिशिर ने कहा कि ममता बनर्जी ने जानबूझ कर स्कूटी चलायी ताकि वो टीवी के पर्दे पर दिख सके। साथ ही उन्होंने कहा कि ममता बनर्जी ने टीवी पर अपने आप को दिखाने के चलते लोगों को तीन घंटे तक जाम में फंसाया।

इस बार पश्चिम बंगाल में वोटिंग आठ चरणों में होगी। बंगाल में  27 मार्च, 1, 6, 10, 17, 22, 26, 29 अप्रैल को मतदान होगा और 2 मई को परिणाम घोषित किए जायेंगे। वहीं इस बार वोट डालने का समय एक घंटा बढ़ाया गया है। इसके अलावा पांच वाहनों के साथ ही रोड शो को अनुमति मिलेगी। साथ ही डोर टू डोर कैंपेनिंग में भी पांच लोग ही जा पायेंगे और सभी चुनाव अधिकारियों को कोरोना का टीका भी लगाया जाएगा।

आपको बता दूँ कि इन पांच राज्यों में देश की करीब 18 फीसदी आबादी रहती है और लगभग 25 करोड़ जनसंख्या है। इन राज्यों में 116 लोकसभा की सीटें हैं। देश की करीब 20 फीसदी विधानसभा सीटें इन राज्यों में हैं।