7वें आसमान की हूर भी ले आया तो मेरा परिवार उसे स्वीकार नहीं कर पाएगा- सायरा बानो से बोले थे दिलीप कुमार, खुद बताई थी वजह

दिलीप कुमार को इस बात की टेंशन सताती थी कि उनका परिवार एक्ट्रेस सायरा बानो को स्वीकार कर भी पाएगा या नहीं।

Dilip Kumar, दिलीप कुमार, Yusuf Khan, Saira Banu दिलीप कुमार और सायरा बानो (फोटो सोर्स- इंडियन एक्सप्रेस आरकाइव)

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर दिलीप कुमार ने अपनी फिल्मों से हिंदी सिनेमा में जबरदस्त पहचान बनाई थी। अपनी एक्टिंग के लिए दिलीप कुमार आज भी लोगों के दिलों में बसे हुए हैं। दिलीप कुमार और सायरा बानो की लव स्टोरी भी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है। दोनों में उम्र का भले ही काफी फर्क था, लेकिन उनकी जोड़ी सिनेमा की पसंदीदा जोड़ियों में से एक थी। हालांकि दिलीप कुमार को यह डर सताता था कि उनका परिवार सायरा बानो को स्वीकार करेगा भी या नहीं। इस बात का खुलासा खुद दिलीप कुमार ने अपनी ऑटोबायोग्राफी में किया था।

दिलीप कुमार ने ‘द सब्सटांस एंड द शेडो: एन ऑटोबायोग्राफी’ में सायरा बानो से जुड़ी बात का जिक्र करते हुए कहा था, “एक दिन मैं और सायरा बीच पर बैठे हुए थे और तभी मैंने उनसे कहा ‘मैं इतने लंबे समय तक कुंवारा रहा हूं कि मेरे परिवार को भी अब इस बात की आदत हो चुकी है।’ मैंने सायरा के सामने इस बात पर भी जोर दिया कि शायद मेरी जिंदगी में एक नए इंसान को स्वीकार कर पाना मेरे परिवार के लिए थोड़ा मुश्किल हो सकता है।”

दिलीप कुमार ने किताब में बताया कि उन्होंने सायरा बानो को भी चेताया कि किसी भी समस्या के बिना उनका उनके परिवार के साथ रहना थोड़ा मुश्किल हो सकता है। दिलीप कुमार ने इस बारे में आगे बताया, “मैंने उन्हें कहा कि अगर मैं सातवें आसमान की हूर भी लाउंगा तो भी मेरा परिवार उसे स्वीकार नहीं कर पाएगा।”

दिलीप कुमार ने इसका कारण साझा करते हुए कहा था, “वह मेरे अकेलेपन के आदी हो चुके हैं और अब किसी और के साथ मुझे नहीं बांटना चाहते हैं।” दिलीप कुमार के विचारों से इतर सायरा बानो ने अपने अंदाज से उनके परिवार का दिल जीत लिया था। बता दें कि सायरा बानो और दिलीप कुमार के कोई बच्चे नहीं थे। इस बात को लेकर दिलीप कुमार का कहना था कि उन्हें कोई पछतावा नहीं है।

दिलीप कुमार ने साल 2012 में दिए इंटरव्यू में बच्चों के सिलसिले में बात करते हुए कहा था, “अगर हमारे अपने बच्चे होते तो यह बहुत अच्छी बात होती, लेकिन अभी हमें इस बात का कोई पछतावा नहीं है। यह सब ऊपर वाले की इच्छा है। न तो कभी सायरा ने और न ही मैंने इस बात को लेकर शिकायतें की हैं।”