Afghanistan Crisis LIVE Updates: न तालिबान से हो रही सियासी बात, न ही शासन को दी है मान्यता- EU ने किया साफ

Afghanistan Crisis LIVE Updates: इसी बीच, पूर्व थल सेना प्रमुख जनरल शंकर रॉय चौधरी ने कहा है कि सरकार को कश्मीर में अपनी पहुंच बढ़ाने और वहां के लोगों को आश्वस्त करने की जरूरत है कि भारत एक धर्मनिरपेक्ष लोकतंत्र बना रहेगा क्योंकि अफगानिस्तान में तालिबान की जीत से पाकिस्तान स्थित आतंकवादियों द्वारा नए सिरे से हमला करने की आशंका है।

Afghanistan Crisis LIVE Updates: ब्रिटेन के लंदन शहर में शनिवार (21 अगस्त, 2021) को अफगानी लोगों के प्रति एकजुटता दर्शाने से जुड़े एक प्रदर्शन में हिस्सा लेती महिलाएं। (फोटोः रॉयटर्स)

Afghanistan Crisis LIVE Updates: यूरोपीय संघ (ईयू) के टॉप अधिकारियों ने शनिवार को तालिबान को चेतावनी दी कि फिलहाल हो रही बातचीत ज्यादा से ज्यादा संख्या में अफगान लोगों को वहां से सुरक्षित निकालने से जुड़ा हुआ है। इसका अर्थ यह नहीं है कि संघ नये शासन को मान्यता देने के लिए तैयार है। स्पेन द्वारा मैड्रिड के पास शरणार्थियों के लिए स्थापित केन्द्र पर ईयू परिषद प्रमुख चार्ल्स मिशेल के साथ पहुंचीं यूरोपीय आयोग की अध्यक्ष उर्सुला वान दे लेयेन ने तालिबान के साथ बातचीत जारी रखने की जरुरत पर बल दिया। ईयू नेता ने कहा, ‘‘संकट की इस घड़ी में हम तालिबान के साथ संपर्क बनाए हुए हैं, क्योंकि हमें इस पर चर्चा करनी है कि इस मुश्किल घड़ी में काबुल में लोगों को हवाई अड्डे तक पहुंचने में कैसे मदद की जाए।’’

वह बोले, ‘‘लेकिन यह पूरी तरह अलग है और राजनीतिक बातचीत से बिलकुल अलग है। तालिबान के साथ कोई राजनीतिक बातचीत नहीं हो रही है और तालिबान को कोई मान्यता नहीं दी गयी है।’’ उर्सुला ने कहा कि अफगानिस्तान को यूरोप से मिलने वाली मानवीय सहायता तालिबान द्वारा मानवाधिकारों, विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों के अधिकारों की रक्षा किए जाने पर निर्भर है। उन्होंने कहा, ‘‘हम तालिबान का बयान सुन रहे हैं, जिसमें जोर दिया जा रहा है कि महिलाओं को समाज में उनका स्थान मिलेगा और इस्लाम के दायरे में रहते हुए उन्हें शिक्षा प्राप्त करने और नौकरी करने का अधिकार होगा। लेकिन ऐसी खबरें भी मिल रही हैं कि पुराने काम या विचारों को लेकर लोगों को परेशान किया जा रहा है और सामान्य रूप से दफ्तर पहुंचने वाली महिलाओं को वहां से लौटाया जा रहा है।’’

Live Updates