BJP में शामिल होंगे ‘मेट्रो मैन’, जानिए कौन हैं पद्म श्री और पद्म विभूषण से सम्मानित हो चुके ई श्रीधरन

श्रीधरन को 2005 में फ्रांस की सरकार की ओर सर्वोच्च नागरिक और सैन्य सम्मान लीजन डी ऑनर भी दिया जा चुका है। 2003 में उन्हें टाइम मैगजीन की एशियन हीरोज की लिस्ट का हिस्सा भी बनाया गया था।

Metro Man, E Sreedharan

देश के मेट्रो प्रोजेक्टस के जनक कहे जाने वाले मेट्रोमैन ई श्रीधरन केरल विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा जॉइन करेंगे। भाजपा की केरल इकाई के अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने बताया कि श्रीधरन 21 फरवरी को कासरगोड़ से पार्टी की ‘विजय यात्रा’ शुरु होने के दौरान भाजपा में शामिल होंगे।

12 जून 1932 को जन्मे श्रीधरन को देश में सार्वजनिक परिवहन प्रणाली में बदलाव का श्रेय दिया जाता है। उनकी गिनती आधुनिक भारत के श्रेष्ठतम इंजीनियरों में होती है। कोलकाता और दिल्ली मेट्रो के अलावा यूपी की लखनऊ मेट्रो और कोंकण मेट्रो का सेहरा भी उन्हीं के सिर बांधा जाता है। श्रीधरन ने दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के विकास कार्यक्रम के दौरान 1995 से 2012 तक डीएमआरसी के प्रबंध निदेशक का पद संभाला था। उन्हें भारत सरकार की तरफ से 2001 में पद्मश्री और 2008 में पद्मविभूषण देकर सम्मानित किया जा चुका है।

श्रीधरन को 2005 में फ्रांस की सरकार की ओर सर्वोच्च नागरिक और सैन्य सम्मान लीजन डी ऑनर भी दिया जा चुका है। 2003 में उन्हें टाइम मैगजीन की एशियन हीरोज की लिस्ट का हिस्सा भी बनाया गया था। 2015 में संयुक्त राष्ट्र के तत्कालीन महासचिव बान की-मून ने उन्हें सतत परिवहन के एक सलाहकार समूह का हिस्सा बनाया था। इसके अलावा श्रीधरन माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड के सदस्य भी हैं।

स्थानीय मीडिया समूहों से बातचीत में श्रीधरन ने साफ किया कि केरल को अब आगे विकसित होने की जरूरत है और मौजूदा सत्ताधारी पार्टी एलडीएफ और विपक्षी यूडीएफ सिर्फ अपना विकास करना चाहती हैं, न कि केरल का। श्रीधरन ने कहा कि केरल अब विकास में पिछड़ रहा है और भाजपा ही इसे विकास की नई राह पर ला सकती है। उन्होंने कहा कि वे खुद केरल के लिए कुछ करना चाहते हैं और इसी को दिमाग में रखकर उन्होंने भाजपा जॉइन की है।

केरल में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने पर श्रीधरन ने कहा कि इसका फैसला भाजपा को करना है। लेकिन अगर पार्टी मुझसे कहेगी, तो मैं चुनाव लड़ने के लिए तैयार हूं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व पर श्रीधरन बोले कि वे दुनिया के सबसे बेहतरीन राष्ट्राध्यक्षों में से हैं। देश को जरूरत थी कि उससे किए वादे निभाए जाएं और देश का विकास हो। पीएम मोदी ने दोनों ही काम बेहतरीन ढंग से किए हैं। मोदी के शासन की खास बात यह रही कि यह सभी काम बिना भ्रष्टाचार के हुए हैं।