Central Vista Project देखने रात को पहुंच गए PM नरेंद्र मोदी, घंटे भर रहे कंस्ट्रक्शन साइट पर; लोग बोले- बस ‘कैमरामैन’ ले निकल पड़े?

आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मोदी ने निर्माण कार्य का निरीक्षण किया और इसमें लगे लोगों से बातचीत की। यह इमारत सेंट्रल विस्टा परियोजना का हिस्सा है जिसे विपक्ष की आलोचना का शिकार होना पड़ा है। सरकारी अधिकारियों के अनुसार 2022 में संसद का शीतकालीन सत्र नए भवन में होगा। संसद के नए भवन का क्षेत्रफल 64,500 वर्गफुट होगा।

Central Vista Project देखने रात को पहुंच गए PM नरेंद्र मोदी, घंटे भर रहे कंस्ट्रक्शन साइट पर; लोग बोले- बस ‘कैमरामैन’ ले निकल पड़े? (Photo- PTI)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को नए संसद भवन के निर्माण स्थल का दौरा किया और वहां चल रहे निर्माण कार्य का जायजा लिया। नए संसद भवन का निर्माण अगले वर्ष के दूसरे पूर्वार्ध तक पूरा होने की उम्मीद है।
आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि मोदी ने निर्माण कार्य का निरीक्षण किया और इसमें लगे लोगों से बातचीत की। यह इमारत सेंट्रल विस्टा परियोजना का हिस्सा है जिसे विपक्ष की आलोचना का शिकार होना पड़ा है। सरकारी अधिकारियों के अनुसार 2022 में संसद का शीतकालीन सत्र नए भवन में होगा। संसद के नए भवन का क्षेत्रफल 64,500 वर्गफुट होगा।
इसमें एक भव्य ‘कॉन्स्टीट्यूशन हाल’ होगा जिसमें भारत की लोकतांत्रिक धरोहर को संजोया जाएगा। इसके अलावा सांसदों के लिए लाउंज, पुस्तकालय, कई समिति कक्ष, भोजन के कक्ष और पार्किंग के लिए स्थान होगा। नई इमारत में लोकसभा में 888 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था होगी जबकि राज्यसभा में 384 सदस्य बैठ सकेंगे।

Central Vista Project प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आज रात लगभग 8.45 बजे नई दिल्ली में नए संसद भवन के निर्माण की स्थिति के निरीक्षण के दौरान कुछ तस्‍वीरें आईं, जिसे लेकर लोग तरह- तरह की बातें करने लगे। @maaster_420 नाम के ट्वीटर हैंडल से एक तस्‍वीर साझा की गई जिसपर लिखा था कि पीएम साहब आज सिविल इंजीनियर बने हैं। @vimallakhotia ने लिखा कि ये सर्वेक्षण कल भी हो सकता था। @NewsJ1964 लेकिन अब मैसेज आएगा कि यूएस से आते ही प्रधानमंत्री निर्माण वाली जगह पर पहुंच गए। @Hamzaaffan3 ने लिखा कि आपका बॉडीगार्ड नहीं दिखाई दे रहा है। ने लिखा कि इतनी लंबी यात्रा के बाद उनको एक दिन आराम करना चाहिए।

यह भी पढ़ें: यूपी चुनावः जिसकी जूती में होता है दम, सरकार उसी की चलती है- BJP नेता का बयान
@srinivasiyc के ट्वीटर हैंडल से लिखा गया कि कैमरा मेन तो जरूरी है। @VijaysMusings ने लिखा कि मुझे लगता है कि रात 8.45 बजे एक निर्माण स्थल को देखने के लिए आपको उल्लू की आंखों की आवश्यकता होती है। ऐसा लगता है कि यह राष्ट्रों की आवश्यकताओं के बजाय उनकी व्यक्तिगत महत्वाकांक्षा है। @real__indian ने लिखा कि चेहरा कैमरे की तरफ ही है। @Iamsufishaikh ने लिखा कि मित्रों मैं बचपन से ही सिविल इंजीनियर बनना चाहता था। पर नेहरू जी ने मुझे बनने ही नही दिया था। निरीक्षण के दौरान की फाटो ट्वीटर पर आते ही लोगों के इसी तरह के रिएक्‍शन आने शुरू रहे।