COVID-19: जाइए, रजिस्टर करिए और पाइए वैक्सीन…लोगों को मिलेगा ये ऑप्शन, जानें- कब और कैसे?

स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि वैक्सिनेशन का अगला फेज देश में टीकाकरण की प्रक्रिया को कई गुना बढ़ा देगा। इसके जरिए उन लोगों को भी वैक्सीन मिल सकेगी, जो पहले फेज में छूट गए हैं।

Coronavirus, COVID-19. Vaccination

कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में टीकाकरण अभियान एक अहम पड़ाव बन चुका है। केंद्र सरकार भी इसके लिए कमर कस रही है। स्वास्थ्यकर्मियों और फ्रंटलाइन वर्कर्स का वैक्सिनेशन पूरा होने के बाद जल्द ही 60 साल के ऊपर के बुजुर्गों और 45 से ज्यादा उम्र के किसी बीमारी से पीड़ित लोगों के टीकाकरण की प्रक्रिया शुरू होगी। इस बीच केंद्र सरकार ने वैक्सीन को लोगों के बीच पहुंचाने के लिए इसे तीन तरह से प्रसारित करने की योजना बनाई है। इसके तहत लोग खुद ही एडवांस रजिस्ट्रेशन करा कर, तुरंत वैक्सिनेशन वाली जगह पर रजिस्ट्रेशन करा कर और किसी की मदद से वैक्सिनेशन करा सकते हैं।

बताया गया है कि एक हालिया उच्चस्तरीय बैठक में वैक्सिनेशन के अगले फेज पर चर्चा हुई थी। यहां केंद्र ने राज्यों को टीकाकरण प्रक्रिया पर सलाह दी थी। खासकर को-विन ऐप वर्जन 2.0 के इस्तेमाल, वैक्सीन पाने वाले लोगों के रजिस्ट्रेशन के विकल्प, लाभार्थियों के आईडी के सत्यापन पर और सरकारी और निजी अस्पतालों में मिलने वाली सुविधाओं को लेकर केंद्र ने राज्यों को पूरा ब्योरा दिया था।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि सरकारी टीकाकरण केंद्रों पर वैक्सीन मुफ्त में लगाई जाएगी। दूसरी तरफ किसी निजी स्वास्थ्य केंद्र पर टीका लगवाने वालों को इसके लिए पहले से तय एक राशि देनी होगी। लाभार्थियों के पास खुद को रजिस्टर कराने के तीन तरीके होंगे। वे मोबाइल पर Co-Win 2.0 ऐप या आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड कर के ही खुद को रजिस्टर करा सकेंगे। इसमें टीकाकरण केंद्र बने सरकारी और निजी अस्पतालों की लिस्ट, वैक्सीन लगवाने की तारीख और समय पहले से मौजूद होगी।

इसके अलावा लोगों के पास खुद ही टीकाकरण केंद्र जाकर खुद को रजिस्टर कराने का विकल्प भी होगा। इसके लिए सरकार करीब तीन लाख सामुदायिक सेवा केंद्रों के इस्तेमाल को सुनिश्चित करने की तैयारी कर रही है। बताया गया है कि सरकार का यह कदम उन लोगों के लिए है, जो ऑनलाइन तरीकों से ज्यादा परिचित नहीं हैं या जिनके पास टीके के लिए रजिस्ट्रेशन कराने के सीमित संसाधन हैं।

स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि वैक्सिनेशन का अगला फेज देश में टीकाकरण की प्रक्रिया को कई गुना बढ़ा देगा। इसके जरिए उन लोगों को भी वैक्सीन मिल सकेगी, जो पहले फेज में छूट गए हैं। वे खुद ही अपनी पसंद के टीकाकरण केंद्रों को चुनकर वैक्सीन पा सकते हैं। फिलहाल इस संबंध में राज्यों को एडवाइजरी दी गई है। उनसे कहा गया है कि वे प्राइवेट सेक्टर के अस्पतालों को भी वैक्सिनेशन सेंटर बनाने की तैयारी पूरी कर लें, ताकि टीकाकरण प्रक्रिया को पूरी क्षमता के साथ आगे ले जाया जा सके।