Income Tax विभाग ने 1.62 लाख करोड़ का भेजा रिटर्न, आप ऐस चेक कर सकते है अपना स्‍टेटस

आयकर विभाग ने अब तक 1.79 करोड़ से अधिक करदाताओं को 1.62 लाख करोड़ रुपये का रिफंड जारी किया है। जिसमें 2020-21 के वित्तीय वर्ष के लिए 1.41 करोड़ रिफंड शामिल हैं, जो 27,111.40 करोड़ रुपये है।

Income Tax Return इनकम टैक्‍स डिर्पाटमेंट ने 1.62 लाख करोड़ रुुपये ITR रिफंड किया है (फाइल फोटो)

आयकर विभाग ने इस वित्‍त वर्ष के दौरान आईटीआर भरने वाले लोगों को पैसा उनके खाते में भेजा है। इसमें आयकर विभाग ने अब तक 1.79 करोड़ से अधिक करदाताओं को 1.62 लाख करोड़ रुपये का रिफंड जारी किया है। जिसमें 2020-21 के वित्तीय वर्ष के लिए 1.41 करोड़ रिफंड शामिल हैं, जो 27,111.40 करोड़ रुपये है।

आयकर विभाग ने इस बारे में डिटेल में जानककारी देते ट्वीट किया है कि केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने 1 अप्रैल, 2021 से 24 जनवरी, 2022 तक 1.79 करोड़ से अधिक करदाताओं को 1,62,448 करोड़ रुपये से अधिक का रिफंड जारी किया है। इसमें 1.77 करोड़ से अधिक संस्थाओं को जारी किए गए हैं। इसमें व्यक्तिगत आयकर रिफंड 57,754 करोड़ रुपये और 2.23 लाख मामलों में 1.04 लाख करोड़ रुपये के कॉर्पोरेट टैक्स रिफंड जारी किए गए हैं।

कैसे चेक कर सकते हैं स्‍टेटस
अगर आपका रिफंड अभी तक नहीं मिला है तो इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की वेबसाइट के जरिए स्टेटस चेक कर सकते हैं। इसके लिए आपको पैन और लॉग इन आईडी और पासवर्ड की जरुरत होगी। इसका उपयोग करके आप आसानी से स्‍टेटस की जांच कर सकते हैं।

POST office Scheme

इस पोस्‍ट ऑफिस की स्‍कीम में 6.6 फीसद का मिल रहा वार्षिक ब्‍याज, हर महीने आ सकती है मोटी रकम; जानें कैसे?

health insurance, health policy renewal,

हेल्थ इंश्योरेंस रिन्यू कराते समय इन बातों को रखें जरूर ध्यान, नहीं तो बाद में हो सकती है परेशानी

SBI BANK

SBI खाताधारकों के लिए राहत! अब इस आसान तरीके से घर बैठे जनरेट कर सकते हैं डेबिट कार्ड PIN व ग्रीन पिन

PPF Vs NPS, Public Provident Fund, National Pension Scheme,

PPF Vs NPS: रिटायरमेंट फंड के लिए दोनों सरकारी स्कीम में कौन सी है बेहतर, जानिए सबकुछ

आयकर विभाग द्वारा टैक्‍स रिफंड बैंक खाते में भेजा जाता है। ऐसे में अगर आपके फॉर्म भरने में कोई दिक्‍कत हो जाती है तो उसे ठीक कराया जाता है। साथ ही इस बार टैक्‍स रिफंड की डेटलाइन भी कई बार बढ़ाई गई, जिस कारण से रिफंड जारी करने में देरी हुई। वहीं अगर फॉर्म भरते समय कोई दिक्‍क्‍त हो जाती है तो सुधार करने का भी समय दिया जाता है। साथ में अगर पैन भी लिंक नहीं है तो उसे भी कराया जा सकता है।