Income Tax Return File करने से पहले करें एडवांस तैयारी, बाद में नहीं होगी परेशानी

आपको पीएफ, प्रोफेशन टैक्स और इनकम टैक्स आदि जैसी विभिन्न कटौतियों को ध्यान में रखते हुए बैंक स्टेटमेंट के साथ अपनी सैलरी स्लिप की भी बारीकी से जांच करनी चाहिए।

income tax return 75 वर्ष से अधिक आयु के वरिष्ठ नागरिकों को अब ITR भरने से छूट दी जाएगी। (indian express)

वित्‍त वर्ष 2020-21 के लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न फाइल करने आखि‍री 30 सि‍तंबर है। जिसकी तैयार‍ियां अभी से शुरू कर देनी चाहिए। इसका कारण भी प्रत्‍येक ग्रुप और क्‍लास के लिए अलग-अलग आईटीआर फॉर्म है। जिनके लिए तैयारियां भी अलग-अलग करनी होती है। आइए आपको भी बताते हैं कि आपको आईटीआर फाइल करने से पहले आपको किस किस तरह की तैयारी करनी चाहिए।

जिन लोगों की इनकम ब्‍याज से होती है
जिन लोगों ने बैंकों में फ‍िक्‍स्‍ड डिपॉजिट में निवेश किया है, उनके लिए 31 मार्च 2021 को समाप्त वर्ष के लिए वार्षिक ब्याज प्रमाण पत्र लेना होगा। जिससे यह सुनिश्चित हो सकेगा कि उन बैंक फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट से आपकी आय में ब्याज सही ढंग से जमा किया गया है। इससे आपको अपना आईटीआर भरने में काफी मदद मिलेगी। इस सर्टिफ‍िकेट से आप यह भी क्रॉस चेक कर सकते हैं कि किसी भी तरह के डिपॉजिट जिस पर मासिक ब्‍याज मिल रहा है वो जमा की गई राश‍ि के साथ मैच हो रहा है या नहीं।

सैलरीड लोगों के लिए
चूंकि 31 जुलाई 2021 तक बढ़ाए गए कर्मचारियों को फॉर्म 16 प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि समाप्त हो गई है, आप सभी को अपना फॉर्म नंबर 16 प्राप्त होना चाहिए। एचआरए और एलटीए जैसी छूट वाली आय की राशि के रूप में शुद्धता के लिए फॉर्म 16 की जांच करें। आपको इसमें उल्लिखित विभिन्न कटौतियों की भी जांच करनी चाहिए ताकि यह पता लगाया जा सके कि आपके द्वारा जमा किए गए सभी डॉक्‍युमेंट्स पर विचार किया जाना चाहिए।

यह मुमकिन है कि इंप्‍लॉयर कुछ ऐसे डॉक्‍युमेंट्स ध्‍यान ना रखे जिन्‍हें देर से जमा किया गया था या ओवरसाइट के कारण अनदेखा कर दिया गया, जिसकी वजह से टैक्‍स में ज्‍यादा कटौती कर दी गई। डॉक्‍युमेंट्स किराए की रसीद, एलटीए के दावे के लिए दस्तावेज़, जीवन बीमा प्रीमियम, स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम, होम लोन ईएमआई, एजुकेशन लोन या स्‍कूल ट्यूशन फीस आदि पर ब्याज जैसी मदों से संबंधित हो सकते हैं। अपनी मासिक सैलरी स्लिप के साथ फॉर्म संख्या 16 में उल्लिखित ग्रास सैलरी का भी मिलान करें। आपको पीएफ, प्रोफेशन टैक्स और इनकम टैक्स आदि जैसी विभिन्न कटौतियों को ध्यान में रखते हुए बैंक स्टेटमेंट के साथ अपनी सैलरी स्लिप की भी बारीकी से जांच करनी चाहिए।

यदि आप व्यवसाय या पेशे से जुड़े हैं
यदि आप व्यवसाय या पेशे में लगे हुए हैं, तो सबसे पहले, आपको यह जांचना होगा कि क्या आप टैक्‍सेशन की एक अनुमानित योजना के लिए पात्र हैं। यदि आप इतने योग्य नहीं हैं, तो आपको अपने खातों का ऑडिट करवाना पड़ सकता है। अपने खातों का ऑडिट कराने के लिए आपको एक ऑडिटर नियुक्त करने की आवश्यकता है और ऑडिट को समय पर पूरा करने के लिए ऑडिटर को प्रस्तुत करने के लिए कुछ विवरण लेने होंगे। यदि आपकी व्यावसायिक रसीदें स्रोतों (टीडीएस) पर कर कटौती के अधीन हैं, तो आपको फॉर्म 26AS के बीच और अपनी अकाउंट बुक्‍स के अनुसार टीडीएस की राशि का मिलान करना होगा। इन दोनों संख्याओं में अंतर होना निश्चित है। इस तरह के अंतर के कई कारण हो सकते हैं, उनमें से प्रमुख विभिन्न अकाउंट ईयर्स में चालानों का लेखा-जोखा है, विशेष रूप से वर्ष के अंतिम महीने के लिए या कटौतीकर्ता द्वारा टीडीएस जमा न करने के कारण।

कैपिटल गेंस इनकम वाले लोगों के लिए
यदि आपको डायरेक्‍ट इक्विटी शेयरों या म्यूचुअल फंड से कैपिटल गेंस होता है, तो आपको यह सत्यापित करने के लिए ब्रोकर्स/म्यूचुअल फंड से अकाउंट्स का विवरण प्राप्त करना होगा क्‍योंकि पूंजीगत लाभ की गणना करते समय सभी लेनदेन पर विचार किया जाता है। इनमें से कुछ लेनदेन जैसे म्युचुअल फंड में सिस्टमैटिक ट्रांसफर प्लान (एसटीपी) आपके बैंक में प्रतिबिंबित नहीं होते हैं। इसी तरह, कुछ इंट्रा-डे ट्रांजेक्‍शंस भी छोड़े जा सकते हैं जहां कुछ शेयर उसी दिन बेचे गए शेयरों के खिलाफ खरीदे गए हैं जो आपके बैंक स्टेटमेंट में पूरी तरह से प्रतिबिंबित नहीं होते हैं। अगला कदम है अपने म्युचुअल फंड हाउस से पूंजीगत लाभ विवरण प्राप्त करना ताकि विभिन्न श्रेणियों के म्युचुअल फंडों से अलग-अलग दरों पर कर योग्य आपके पूंजीगत लाभ की सही गणना की जा सके।

फॉर्म नंबर 26एएस के साथ ट्रांजेक्‍शन का वेरिफ‍िकेशन
सभी टैक्‍सपेयर्स को अपना नवीनतम फॉर्म नंबर 26AS डाउनलोड करना होगा और यह सत्यापित करना होगा कि आपकी टैक्‍सेबल इनकम की गणना करते समय इसमें दि‍ए गए सभी ट्रांजेक्‍शन पर विधिवत विचार किया गया है। आपको उन सभी इनकम का भी हिसाब देना होगा जिसके लिए इस फॉर्म में टीडीएस दिखाई दे रहा है। चूंकि 26 एएस की सामग्री में अब विभिन्न वित्तीय लेनदेन भी शामिल हैं, इसलिए यह सत्यापित करना उचित है कि 26 एएस में दर्ज ऐसे सभी लेनदेन आपके हैं और आपकी टैक्‍सेबल की गणना करते समय आपके द्वारा विचार किया गया है।