Ind vs Eng: ओवल में 50 साल से नहीं जीती है टीम इंडिया, टॉस जीतने के बाद कभी नहीं चख पाई जीत का स्वाद

महेंद्र सिंह धोनी इकलौते भारतीय हैं, जिनकी अगुआई में दो बार टीम इंडिया इस मैदान पर टेस्ट मैच में उतरी। हालांकि, दोनों बार उसे हार झेलनी पड़ी। धोनी के बाद विराट कोहली दूसरे भारतीय होंगे, जो इस मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में दूसरी बार टीम इंडिया की कमान संभालेंगे।

भारत और इंग्लैंड के बीच 5 मैच की सीरीज का चौथा टेस्ट मैच लंदन के केनिंगटन ओवल मैदान पर 2 सितंबर से खेला जाना है। भारतीय समयानुसार यह मुकाबला दोपहर 3:30 बजे शुरू होगा। पहले दिन दोपहर 3:00 बजे टॉस होगा। भारतीय टीम ने इस मैदान पर पहला टेस्ट अगस्त 1936 में खेला था। तब से अब तक उसने इस मैदान पर 13 टेस्ट मैच खेले हैं। इनमें से वह सिर्फ एक में जीत हासिल कर पाया है, जबकि पांच में उसे हार झेलनी पड़ी है। वहीं, 7 टेस्ट ड्रॉ पर छूटे हैं।

भारतीय टीम ने इस मैदान पर आखिरी जीत अगस्त 1971 को हासिल की थी। साल 1971 में 19 से 24 अगस्त तक चले उस टेस्ट मैच में भारतीय क्रिकेट टीम की कमान अजीत वाडेकर के हाथों में थी। भारत ने वह मैच 4 विकेट से जीता था। उस मैच में इंग्लैंड ने पहली पारी में 355 रन बनाए थे। भारत की पहली पारी 284 रन पर ही सिमट गई थी। हालांकि, दूसरी पारी में भागवत चंद्रशेखर की कातिलाना गेंदबाजी के दम पर इंग्लैंड की टीम 101 रन ही बना पाई। इस तरह भारत को जीत के लिए 173 रन का लक्ष्य मिला।

इसके बाद भारत ने 6 विकेट पर 174 रन बनाकर ओवल में पहली टेस्ट जीत अपने नाम की थी। इंग्लैंड की दूसरी पारी में भागवत चंद्रशेखर ने 18.1 ओवर में 38 रन देकर 6 विकेट लिए। श्रीनिवास वेंकटराघवन ने 20 ओवर में 44 रन देकर 2 विकेट लिए। बिशन सिंह बेदी ने दूसरी पारी में सिर्फ एक ओवर फेंका। उसमें उन्होंने एक रन देकर एक विकेट झटका था।

उस मैच के बाद से भारत ने इस मैदान पर अब तक 8 टेस्ट खेले। इनमें से उसे तीन में हार झेलनी पड़ी और 5 मैच ड्रॉ पर छूटे। यही नहीं, भारतीय टीम ने 2007 के बाद इस मैदान पर तीन टेस्ट मैच खेले और तीनों में शिकस्त झेली। उसने 18 अगस्त 2011 को एक पारी और 8 रन, 15 अगस्त 2014 को एक पारी और 244 रन और सात सितंबर 2018 को 118 रन से हार का सामना किया।

महेंद्र सिंह धोनी इकलौते भारतीय हैं, जिनकी अगुआई में दो बार टीम इंडिया इस मैदान पर टेस्ट मैच में उतरी। हालांकि, दोनों बार उसे हार झेलनी पड़ी। धोनी के बाद विराट कोहली दूसरे भारतीय होंगे, जो इस मैदान पर टेस्ट क्रिकेट में दूसरी बार टीम इंडिया की कमान संभालेंगे। सितंबर 2018 में उनकी अगुआई में टीम इंडिया को इंग्लैंड के खिलाफ हार झेलनी पड़ी थी।

इस मैदान पर भारतीय टीम अब तक 12 कप्तानों महाराजा ऑफ विजयनगरम (Maharajah of Vizianagram), इफ्तिखार अली खान पटौदी (Iftikhar Ali Khan Pataudi), विजय हजारे (Vijay Hazare), दत्ता गायकवाड़ (Datta Gaekwad), अजीत वाडेकर (Ajit Wadekar), श्रीनिवास वेंकटराघवन (Srinivas Venkataraghavan), सुनील गावस्कर (Sunil Gavaskar), मोहम्मद अजहरुद्दीन (Mohammad Azharuddin), सौरव गांगुली (Sourav Ganguly), राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid), महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) और विराट कोहली (Virat Kohli) की अगुआई में खेल चुकी है। इसमें महाराजा ऑफ विजयनगरम, दत्ता गायकवाड़, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया को हार झेलनी पड़ी है।

भारतीय कप्तान इस मैदान पर सिर्फ 4 बार (साल 1946, 1959, 1990 और 2007) ही टॉस जीत पाए हैं। हालांकि, जब भी भारत ने यहां टॉस जीता वह मैच नहीं जीत पाया। साल 1959 में उसे टॉस जीतने के बाद एक पारी और 27 रन से हार भी झेलनी पड़ी थी। सौरव गांगुली, महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली यहां अब तक टॉस नहीं जीत पाए हैं।